रविवार, 8 जुलाई 2012

डेस्क पर दुष्कर्म


रौंदे गए खेत की तरह
पहुंची वह डेस्क पर
भरभरा कर ढहती
मिट्टी का सिलसिला
शिथिल पड़ गया था
पर थमा नहीं था बिल्कुल
पुलिस लग गई थी छानबीन में
सुराग की छेद में समाया था
टीचर से ब्वॉयफ्रेंड बना गिरिधारी

कवर की बॉटम होगी
पूरे पांच कॉलम की
उघड़ी खबर की आंखें
कल शहर की तमाम आंखों की
तलाशी लेगी

घबराना नहीं तुम
छंटने लगे बेहोशी तब भी
कल कोई नहीं पहचानेगा
भरभरा कर झरती
दोबारा इस मिट्टी को
बदनाम तो होगी वह
जिसे सूंघते फिरंगे सब
सड़कों-मोहल्लों पड़ोस में
और हम
हम तो होंगे बस
पेशेवर चश्मदीद
भेड़ियों की पीठ पर
शरारतन धौल जमाते

अगले नाम से फिर एक बार
दोहराया गया दुष्कर्म
हौले-हौले फूंक-फूंककर
मर्दाना शहर में बढ़ गई अचानक
मांदों की गिनती
पिछले साल पांच सौ छब्बीस
इस साल अगस्त तक
चार सौ इक्कीस

स्कूल में पढ़ने वाली
मालती को क्या पता था
सबक याद कराने वाला मास्टर
उसे क्या रटा रहा है
देर शाम बेहोश मिली मालती
कोचिंग सेंटर के आखिरी कमरे में

चालीस फोंट की बोल्ड हेडिंग
लुट गई मालती दिन-दहाड़े
खुलती आंखों का भरोसा
फिर से सो गया
लोकशाही के चौथे खंभे का
हथकंडा देखकर

8 टिप्‍पणियां:

lokendra singh rajput ने कहा…

प्रेम जी बेहद गंभीर मसले को बेहतर तरीके से उठाया है अपने... झकझोर कर रख दिया आपकी इस कविता ने... कथित चौथे खम्बे से ही जुदा हूँ तो सब कुछ घूम गया आँखों में....

शालिनी कौशिक ने कहा…

sachchai ko shabdon me bahut hi marmik dhang se piroya hai aapne.

S.N SHUKLA ने कहा…

सार्थक और सामयिक ,

आमिर दुबई ने कहा…

शिखा जी ,आपने इस ब्लॉग को बहुत ही बेहतरीन सजाया है.आज पहली बार यहाँ आना हुआ ,बहुत अच्छा लगा.



मोहब्बत नामा
मास्टर्स टेक टिप्स

Kavita Rawat ने कहा…

स्कूल में पढ़ने वाली
मालती को क्या पता था
सबक याद कराने वाला मास्टर
उसे क्या रटा रहा है
देर शाम बेहोश मिली मालती
कोचिंग सेंटर के आखिरी कमरे में
..bigadte haalaton mein kisi par kaise bharosa karen bahut mushkil hota jaa rahai..
bahut samvedansheel aur sachet karti prastuti ke liye aabhar!

Prem Prakash ने कहा…

shukria...dOsToN...!

शिखा कौशिक ने कहा…

prem ji -aaj sab apne faide ke liye kisi ki bhi garima ki dhajjiyan uda rahe hain .mahilayen v ladkiyan iska sabse jyada shikar hain .bahut sarthak prastuti .aabhar

Reena Pant ने कहा…

ह्रदय स्पर्शी ,वास्तविक,भयावह ....... आज किस मोड़ पर खडे है हम ........