सोमवार, 23 जुलाई 2012

जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें '' भारतीय नारी ''


जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें '' भारतीय नारी ''
''भारतीय नारी ''ब्लॉग आज ब्लॉग जगत में अपना एक प्रतिष्ठित स्थान बना चुका है और इसके समर्थकों व योगदानकर्ताओं की संख्या में नित नयी संख्या जुडती जा रही है .काफी विचार करने पर ही यह महसूस होता है कि आज इस ब्लॉग को एक वर्ष पूर्ण हो गया है .अभी कल ही की तो बात लगती है जब शिखा कौशिक जी ने ये ब्लॉग बनाया और हमें इसमें योगदान हेतु आमंत्रित किया .डॉ.अनवर जमाल जी के सहयोग को नकारना एहसान फरामोशी कहा जायेगा क्योंकि उन्होंने इस ब्लॉग की स्थापना � AF योगदान दिया है और इसके लिंक को अपने ब्लोग्स पर लगाकर अन्य ब्लोगर्स को इससे जुड़ने के लिए प्रेरित किया .डॉ.श्याम गुप्त जी इस ब्लॉग के सबसे बड़े योगदानकर्ता कहे जायेंगे जिन्होंने अपने उपन्यास और अपनी बहुत सी पोस्ट इस पर प्रकाशित कर भारतीय नारी का साथ भी दिया है और उन्हें अच्छा कार्य करने हेतु प्रेरित भी किया है .यूँ तो जितने ब्लोगर भी इस ब्लॉग पर योगदानकर्ता  या समर्थक के रूप में जुड़े हैं आज भारतीय नारी के लिए महत्वपूर्ण सहयोगी का स्थान ग्रहण कर चुके हैं और हम सभी के धन्यवाद् के पात्र हैं.

  भारतीय नारी ब्लॉग को शिखा जी ने जो सबसे बड़ी खासियत दी है वह ही इस ब्लॉग को ब्लॉग जगत में महत्वपूर्ण स्थान प्रदान करती है और वह खासियत है इस ब्लॉग में नारी और पुरुष  को बराबर स्थान .यूँ तो बहुत से सामूहिक ब्लोग्स पर नारी पुरुष एक साथ कार्य कर रहे हैं किन्तु ये ब्लॉग नारी संबंधी  आलेखों  में पुरुषों  को भी अपने विचार प्रस्तुत करने का स्थान देता है यही इसकी सबसे बड़ी खासियत है 
ये सत्य है कि पुरुष की अहंवादी सोच व सत्तात्मक रवैय्ये ने नारी को अंधेरों में घिरे रहने को मजबूर किया है किन्तु इस सत्य से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि बहुत से पुरुषों ने दकियानूसी रवैय्ये को दरकिनार कर नारी की सफलता में सहयोग तो किया ही है बहुत सी ऐसी नारियों को आगे भी बढाया है जिनके जीवन में आगे बढ़ने की सोच कोई स्थान नहीं रखती थी .भारत की पहली महिला डॉ. डॉ.आनंदी बाई की जब शादी हुई तो वे बहित छोटी थी और पढ़ी लिखी भी नहीं थी .उनके पति ने न केवल उन्हें पढाया बल्कि पढाई के लिए समाज की खिलाफत सहते हुए उन्हें विदेश भी भेजा और देश को पहली महिला डॉ दी.
ऐसे ही हमारी राष्ट्रपति श्रीमती प्रतिभा देवी सिंह पाटिल जी के पति भी प्रशंसा के हक़दार हैं .जहाँ एक सामान्य पति-पत्नी जो साधारण नौकरी में लगे होते हैं और पत्नी की तनख्वाह या पदवृद्धि पति को कुंठा से भर देती है वहीँ माननीय देवी सिंह जी हर कदम पर प्रतिभा जी का साथ देते दिखाई देते हैं और अन्य पुरुषों के लिए आदर्श प्रस्तुत करते हैं .
  ऐसे में शिखा जी के द्वारा इस ब्लॉग पर भारतीय नारी के सम्बन्ध में आलेख प्रस्तुत करने हेतु पुरुषों को नारी के बराबर दर्ज़ा  दिया जाना प्रशंसनीय और सराहनीय कदम है .आखिर जब नारी पुरुष से बराबरी चाहती है तो उसे भी पुरुषों को बराबरी का हक़ देना होगा.कहा भी गया है-
           ''पूरी धरा भी साथ दे तो और बात है,
            पर तू जरा  भी साथ दे तो और बात है ,
            चलने को तो एक पों से भी चल रहे हैं लोग
            ये दूसरा भी साथ दे तो और बात है .''
एक बार फिर भारतीय नारी ब्लॉग को जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनायें.
                            शालिनी कौशिक 

11 टिप्‍पणियां:

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

एक वर्ष होने कि खुशी मे हार्दिक बधाइयाँ | कामना है कि ये ब्लॉग नित नई ऊंचाइयों को छुवे |

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

एक वर्ष होने कि खुशी मे हार्दिक बधाइयाँ | कामना है कि ये ब्लॉग नित नई ऊंचाइयों को छुवे |

शिखा कौशिक ने कहा…

आपने एक वर्ष के समय का पूरा सफ़र ही तय करा दिया है इस पोस्ट द्वारा .आभार

veerubhai ने कहा…

सालगिरह मुबारक .आज ज्यादा प्रासंगिक है यह ब्लॉग .एक लड़ाकू दस्ता भी शहर शहर बने .

रविकर फैजाबादी ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

expression ने कहा…

बहुत बहुत बधाई.........
शुभकामनाये सदा के लिए...

अनु

सुशील ने कहा…

आज एक वर्ष की हो जाने पर
जन्मदिन की शुभकामनाऎ
मैं ले कर यहाँ आया हूँ
भारतीय नारी का
झंडा फहराने पर
बहुत बहुत बधाई
साथ में देने भी
यहाँ आया हूँ !!

वाणी गीत ने कहा…

बहुत बधाई और शुभकामनायें !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
चलना ही है जिन्दगी, ये जीवन आधार।
चलता-फिरने से लगे, जीवित सा संसार।।

Rajesh Kumari ने कहा…

naarनारी ब्लॉग के जन्मदिवस पर ढेरों बधाइयां ये ब्लॉग इसी तरह उचाईयों को छूता रहे सफलता के सोपान चढ़ता रहे यही मेरी शुभकामनाएं हैं

kanu..... ने कहा…

bahut badhai janmadin ki :)shikha ji ko bhi badhai