सोमवार, 20 फ़रवरी 2017

पद--- डा श्याम गुप्त .....

पद---  डा श्याम गुप्त.....
......

मैं तो खोजि खोजि कें हारो |
ब्रह्म हू जान्यो, पुरानन खोजो, गीता बचन उचारो |
ज्ञान वार्ता, धरम-करम औ भक्ति-प्रीति मन धारो |
कथा रमायन, वेद-उपनिषद् ढूँढो अग-जग सारो |
पोथी पढ़ि पढ़ि भजन -कीरतन रत अति भयो सुखारो |
किधों रहै कित उठै औ बैठे कौन सो ठांव तिहारो |
कबहुं न काहू कतहु न पायो प्रभु का रूप संवारो |
थकि हारो अति आरत , राधे राधे नाम पुकारो |
कुञ्ज-कुटीर में लुकौ राधिका पाँव पलोटतु प्यारो |
सो लीला छवि निरखि श्याम' तन मन अति भयो सुखारो ||

रविवार, 19 फ़रवरी 2017

-विकास या पतन----लघु कथा---- ---डा श्याम गुप्त...



लघु कथा-----विकास या पतन ---डा श्याम गुप्त....


      “यहाँ लड़कियां, स्त्रियाँ सब खाए-पिए, हैवी बदन वाली, भारी बेडौल शरीर व नितम्बों वालीं, अनियमित चाल वालीं, जो टाईट जींस-पेंट टॉप में और अधिक उभरकर आती है, दिखाई देती हैं|,” मल्टी-स्टोरी रेजिडेंन्शियल बिल्डिंग के भ्रमण–पथ पर स्थानीय मित्रों के साथ घूमते हुए मैंने कहा |

      ‘हाँ, सभी आधुनिका, पढी-लिखी नारी हैं | अच्छी पगार-पैकेज पाने वालीं या पाने वाले या बिजनेस वाले अपेक्षाकृत अमीर लोगों की पत्नी, बहू-बेटियाँ हैं | ठाठ-बाट से रहने वालीं, लिपी-पुती, पेंट-जींस में रहने वालीं |’ शुक्ला जी बोले |

      ‘भई, अब वो कम खाने वाली, बचा-खुचा खानेवाली, गम खाने वाली स्त्रियाँ थोड़े ही रह गयी हैं | तरक्की पर है समाज | अब नारी वो पतली-दुबली, कृशकाय अबला नहीं रही|’ जोशीजी कहने लगे |

      ‘ हाँ सही है, परन्तु कहाँ है वह ग्लेमर, सहज-प्राकृतिक सौन्दर्य जो साधारण वस्त्रों में, रूखा-सूखा खाकर भी प्रसन्न रहने वाली सामान्य महिला में होता है | कवि की कल्पना की उस  ‘कनक छरी सी कामिनी...’  में होता है | जिसके लिए मजनूँ, फरहाद, सदाबृक्ष, रांझा जीवन वार देते थे |’ मैंने प्रश्न किया, शायद स्वयं से ही |

      ‘वस्तुतः अति-अभिजात्यता, अत्याधुनिकता सदैव ही स्त्रैण-भाव की कमी व नारी में पुरुषत्व-भाव लाती है | अप्राकृतिकता व नारी के सहज आकर्षण की कमी उत्पन्न करती है| यह सदा से ही होता आया है | पहले भी राजकुमार प्रायः राजकुमारियों को छोड़कर किसी दासी, दासी-पुत्री या सामान्य ग्रामीण बाला को पसंद करने लगता था, रानी बनाने हेतु | जाने कितनी गाथाएँ हैं|’ मैंने कहा |

     आज भी तो,’ शुक्ला जी कहने लगे, ‘साहब प्रायः घरेलू नौकरानी, मातहत, कामगार, सेक्रेटरी के आकर्षण में बह जाते हैं| पश्चिम-समाज में तो यह काफी सामान्य बात है, साहब का, मालिक का, सेविका से, घर की व्यवस्थापिका से, मातहत से शादी कर लेना | आज अभिजात्य में प्रेम, प्रेम के त्याग भाव आदि के न रह जाने से स्त्रियोचित लावण्य-सौन्दर्य नहीं दिख रहा है|  कमाऊ पत्नी देर रात तक बाहर रहने वाली पत्नी युग एवं फैशन, चमक-धमक के युग में, केवल शारीरिक आकर्षण व आवश्यकता ही प्रधान रह गयी है| विवाह भी आज बस सहजीवन रह गया है, एक सौदा, कांट्रेक्ट....| 
     ‘सही कह रहे हैं शुक्ला जी’, मैंने कहा,  ‘कहाँ रहा वह अटूट बंधन, प्रेम, भक्ति, त्याग का आकर्षण-बंधन | अतः पुरुष भी भ्रमित भाव , शारीरिक आकर्षण में बह जाता है , कहीं भी | स्त्री-पुरुष अहं, ईगो, झगड़े, तलाक व पुनर्विवाह के मामले सामान्य होते जा रहे हैं|’  

      ‘पर यह उन्नति-प्रगति का दौर है, बौद्धिकता के विकास का, कब तक वहीं पड़े रहेंगे’, सुराना जी कहने लगे, ‘कि नारी पुरुष की अभ्यर्थना में खड़ी रहे| अरे, अच्छा कमाते हैं तो सुख क्यों न उठायें| लड़कियां किसी से कम थोड़े ही हैं, बराबरी का दौर है |’  

        हाँ वह तो है, मैं सोचते हुए बोला, ‘पर इसमें नारी, स्त्री, पत्नी, रानी न रहकर सिर्फ भोग्या ही रह गयी है | यह विकास है या पतन |

रविवार, 29 जनवरी 2017

यह हैं असली नायिकाएँ

यह हैं असली नायिकाएँ


भंसाली का कहना है कि पद्मावती एक काल्पनिक पात्र है ।इतिहास की अगर बात की जाए तो  राजपूताना इतिहास में चित्तौड़ की  रानी पद्मिनी का नाम बहुत ही आदर और मान सम्मान के साथ लिया जाता है।
भारतीय इतिहास में कुछ औरतें आज भी वीरता और सतीत्व की मिसाल हैं जैसे सीता द्रौपदी संयोगिता और पद्मिनी। यह चारों नाम केवल हमारी जुबान पर नहीं आते बल्कि इनका नाम लेते ही जहन में इनका चरित्र कल्पना के साथ जीवंत हो उठते है।
रानी पद्मिनी का नाम सुनते ही एक ऐसी खूबसूरत वीर राजपूताना नारी की तस्वीर दिल में उतर आती है जो चित्तौड़ की आन बान और शान के लिए 16000 राजपूत स्त्रियों के साथ  जौहर में कूद गई थीं। आज भी रानी पद्मिनी और जौहर दोनों एक दूसरे के पर्याय से लगते हैं। इतिहास गवाह है कि जब अलाउद्दीन खिलजी ने चित्तौड़ के महल में प्रवेश किया था तो वो जीत कर भी हार चुका था क्योंकि एक तरफ रानी पद्मिनी को जीवित तो क्या मरने के बाद भी वो हाथ न लगा सका ।
लेकिन भंसाली तो रानी पद्मिनी नहीं पद्मावती पर फिल्म बना रहे हैं । बेशक उनके कहे अनुसार वो एक काल्पनिक पात्र हो सकता है लेकिन जिस काल खण्ड को वह अपनी फिल्म में दिखा रहे हैं वो कोई कल्पना नहीं है। जिस चित्तौड़ की वो बात कर रहे हैं वो आज भी इसी नाम से जाना जाता है। जिस राजा रतनसिंह की पत्नी के रूप में रानी पद्मावती की  " काल्पनिक कहानी" वे दिखा रहे हैं वो राजा रतन सिंह कोई कल्पना नहीं हमारे इतिहास के वीर योद्धा हैं। और 'लास्ट बट नौट द लीस्ट ' जो अलाउद्दीन खिलजी आपकी इस फिल्म में पद्मावती पर फिदा है उसके नाम भारतीय इतिहास का सबसे काला पन्ना और खुद मुग़ल इतिहास में सबसे क्रूर शासक के नाम से दर्ज है।
तो सोचने वाली बात यह है कि यह कैसी काल्पनिक कहानी है जिसका केवल ' एक ' ही पात्र काल्पनिक है ? कोई भी कहानी या तो कल्पना होती है या सत्य घटना पर आधारित होती है । भंसाली शायद भूल रहे हैं कि  यदि अतीत की किसी सत्य घटना में किसी कल्पना को जोड़ा जाता है तो इसी को  'तथ्यों को गलत तरीके से पेश करना ' या फिर 'इतिहास से छेड़छाड़ करना ' कहा जाता है।
चलो मान लिया जाए कि रानी पद्मावती एक काल्पनिक पात्र है लेकिन भंसाली शायद यह भी भूल गए कि काल्पनिक होने के बावजूद रानी पद्मावति एक भारतीय  रानी थी जो किसी भी सूरत में स्वप्न में भी  किसी क्रूर मुस्लिम आक्रमण कारी पर मोहित हो ही नहीं सकती थी।
हमारे इतिहास की यह स्त्रियाँ ही हर भारतीय नारी की आइकान हैं । रानी पद्मिनी जैसी रानियाँ किसी पटकथा का पात्र नहीं असली नायिकाएँ हैं , वे किवदन्तियाँ नहीं हैं आज भी हर भारतीय नारी में जीवित हैं।
डॅा नीलम महेंद्र

रविवार, 18 दिसंबर 2016

क्यों न स्त्री होने का उत्सव मनाया जाए

क्यों न स्त्री होने का उत्सव मनाया जाए



स्त्री ईश्वर की एक खूबसूरत कलाकृति  !
यूँ तो समस्त संसार एवं प्रकृति ईश्वर की बेहतरीन
रचना है किन्तु स्त्री उसकी अनूठी रचना है  , उसके दिल के बेहद करीब 
इसीलिए तो उसने उसे उन शक्तियों से लैस करके इस धरती पर भेजा जो स्वयं उसके पास हैं  मसलन प्रेम एवं ममता से भरा ह्दय , सहनशीलता एवं धैर्य से भरपूर व्यक्तित्व  ,क्षमा करने वाला ह्रदय , बाहर से फूल सी कोमल किन्तु भीतर से चट्टान सी इच्छाशक्ति से परिपूर्ण और सबसे महत्वपूर्ण , वह शक्ति जो एक महिला को ईश्वर ने दी है  , वह है उसकी सृजन शक्ति 
सृजन  , जो केवल ईश्वर स्वयं करते हैं  ,मनुष्य का जन्म जो स्वयं ईश्वर के हाथ है उसके धरती पर आने का जरिया स्त्री को बनाकर उस पर अपना भरोसा जताया ।
उसने स्त्री और पुरुष दोनों को अलग अलग बनाया है और वे अलग अलग ही हैं 
अभी हाल ही में आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी ने लिंग भेद खत्म करने के लिए  'ही' और 'शी' के स्थान पर' ज़ी ' शब्द का प्रयोग करने के लिए कहा है 
यूनिवर्सिटी ने स्टूडेन्ट्स के लिए नई गाइड लाइन जारी की है  'ज़ी' शब्द का प्रयोग अकसर ट्रांसजेन्डर लोगों द्वारा किया जाता है  ।यूनिवर्सिटी का कहना यह है कि इससे ट्रांसजेन्डर स्टूडेन्ट्स असहज महसूस नहीं करेंगे साथ ही लै्गिक समानता भी आएगी तो वहाँ पर विषय केवल स्त्री पुरुष नहीं वरन् ट्रान्स्जेन्डरस में भी लिंग भेद खत्म करने के लिए उठाया गया कदम है 
समाज से लिंग भेद खत्म करने के लिए किया गया यह कोई पहला प्रयास  नहीं है ।लेकिन विचार करने वाली बात यह है कि इतने सालों से सम्पूर्ण विश्व में इतने प्रयासों के बावजूद आज तक तकनीकी और वैज्ञानिक तौर पर इतनी तरक्की के बाद भी महिलाओं की स्थिति आशा के अनुरूप क्यों नहीं है  ? प्रयासों के अनुकूल परिणाम प्राप्त क्यों नहीं हुए  ?
क्योंकि इन सभी प्रयासों में स्त्री ने सरकारों और समाज से अपेक्षा की किन्तु जिस दिन वह खुद को बदलेगी , अपनी लड़ाई स्वयं लड़ेगी वह जीत जाएगी 
महिला एवं पुरुषों की समानता  , महिला सशक्तिकरण  , समाज में उन्हें पुरुषों के समान अधिकार दिलाने के लिए भारत समेत सम्पूर्ण विश्व में अनेकों प्रयास किया गए हैं 
महिलाएं भी स्वयं अपना मुकाबला पुरुषों से करके यह सिद्ध करने के प्रयास करती रही हैं कि वे किसी भी तरह से पुरुषों से कम नहीं हैं 
भले ही कानूनी तौर पर उन्हें समानता के अधिकार प्राप्त हैं किन्तु क्या व्यवहारिक रूप से समाज में महिलाओं को समानता का दर्जा हासिल है  ?
केवल लड़कों जैसे जीन्स शर्ट पहन कर घूमना या फिर बाल कटवा लेना अथवा स्कूटर बाइक कार चलाना , रात को देर तक बाहर रहने की आजादी जैसे अधिकार मिल जाने से महिलाएँ  पुरुषों के समान अधिकार प्राप्त कर लेंगी  ? इस प्रकार की बराबरी करके महिलाएँ स्वयं अपना स्तर गिरा लेती हैं।
हनुमान जी को तो   उनकी शक्तियों का एहसास जामवंत जी ने कराया था  , लेकिन आज महिलाओं को  अपनी शक्तियों एवं क्षमताओं का एहसास स्वयं  कराना होगा उन्हें यह समझना होगा कि शक्ति का स्थान शरीर नहीं ह्दय होता है , शक्ति का अनुभव एक मानसिक अवस्था है , हम उतने ही शक्तिशाली होते हैं जितना कि हम स्वयं को समझते हैं 
जब ईश्वर ने ही दोनों को एक दूसरे से अलग बनाया है तो  यह विद्रोह वह समाज से नहीं स्वयं ईश्वर से कर रही हैं 
यह  हर स्त्री के समझने का विषय है कि
स्त्री की पुरुष से भिन्नता ही उसकी शक्ति है उसकी खूबसूरती है उसे वह अपनी शक्ति के रूप में ही स्वीकार करे अपनी कमजोरी न बनाए 
अत: बात समानता की नहीं स्वीकार्यता की हो  !
बात 'समानता ' के अधिकार के बजाय " सम्मान के अधिकार" की हो ।
और इस सम्मान की शुरूआत स्त्री को ही करनी होगी   स्वयं से 
सबसे पहले वह अपना खुद का सम्मान करे अपने स्त्री होने का उत्सव मनाए ।
स्त्री यह अपेक्षा भी न करे कि उसे केवल इसलिए सम्मान दिया जाए क्योंकि वह एक स्त्री है  ,
यह सम्मान   किसी संस्कृति या कानून अथवा समाज से भीख में मिलने वाली भौतिक चीज़ नहीं है 
स्त्री समाज को अपने आस्तित्व का एहसास कराए कि वह केवल एक भौतिक शरीर  नहीं वरन् एक बौद्धिक शक्ति है , एक  स्वतंत्र आत्मनिर्भर व्यक्तित्व है जो अपने परिवार और समाज की शक्ति हैं न कि कमजोरी  जो सहारा देने वाली है न कि सहारा लेने वाली ।
सर्वप्रथम वह खुद को अपनी देह से ऊपर उठकर स्वयं स्वीकार करें तो ही वे इस देह से इतर अपना आस्तित्व समाज में स्वीकार करा पाएंगी 
हमारे समाज में ऐसी महिलाओं की कमी नहीं है जिन्होंने इस पुरुष प्रधान समाज में भी मुकाम हासिल किए हैं  , इंदिरा गाँधी  चन्दा कोचर  इंन्द्रा नूयी  सुषमा स्वराज  , जयललिता  अरुंधती भट्टाचार्य , किरण बेदी , कल्पना चावला आदि 
स्त्री के  स्वतंत्र सम्मान जनक आस्तित्व की स्वीकार्यता  एक मानसिक अवस्था है एक विचार है एक एहसास है एक   जीवनशैली है जो जब संस्कृति में परिवर्तित होती है जिसे  हर सभ्य समाज   अपनाता है तो निश्चित ही यह सम्भव हो सकता है।
बड़े से बड़े संघर्ष की शुरुआत  पहले कदम से होती है और जब वह बदलाव  समाज के विचारों  आचरण एवं नैतिक मूल्यों से जुड़ा हो तो इस परिवर्तन की शुरुआत समाज की इस सबसे छोटी इकाई से अर्थात् हर एक परिवार से ही हो सकती है 
यह एक खेद का विषय है कि भारतीय संस्कृति में  महिलाओं को देवी का दर्जा प्राप्त होने के बावजूद हकीकत में महिलाओं की स्थिति दयनीय है 
आज भी कन्या भ्रूण हत्याएँ हो रही हैं  , बेटियाँ दहेज रूपी दानव की भेंट चढ़ रही हैं  कठोर से कठोर कानून इन्हें नहीं रोक पा रहे हैं  तो बात कानून से नहीं बनेगी 
हर व्यक्ति को हर घर को हर बच्चे को समाज की  छोटी से छोटी ईकाई को इसे अपने विचारों में अपने आचरण में अपने व्यवहार में अपनी जीवन शैली में समाज की संस्कृति में शामिल करना होगा।
यह समझना होगा कि बात समानता नहीं सम्मान की है
तुलना नहीं स्वीकार्यता की है
स्त्री परिवार एवं समाज का हिस्सा नहीं पूरक है।
अत: सम्बोधन भले ही बदल कर 'ज़ी' कर दिया जाए लेकिन ईश्वर ने जिन नैसर्गिक गुणों के साथ  "ही" और  "शी" की रचना की है उन्हें न तो बदला जा सकता है और न ही ऐसी कोई कोशिश की जानी चाहिए 
डाँ नीलम महेंद्र

शनिवार, 10 दिसंबर 2016

मुस्लिम महिला की स्थिति मजाक !

भारतीय नारी ब्लॉग की माननीया सदस्य सुश्री शालिनी कौशिक जी का महत्वपूर्ण आलेख -

triple talaq debate, Uniform Civil Code, Muslim personal law, Talaq-e-bidat, nikah halala meaning, supreme court, supreme court on triple talaq, PK Modinikah halala muslim, india newsImage result for woman in burka images

 इलाहाबाद हाई कोर्ट ने तीन तलाक के मुद्दे पर तल्ख़ टिप्पणी करते हुए कहा -''मुस्लिम महिलाओं से क्रूरता है तीन तलाक ''.आरम्भ से हम सुनते आये कि मुसलमानों में बस पति ने कहा ''तलाक-तलाक-तलाक'' और हो गया तलाक ,आज ये मुद्दा चर्चाओं में आया है जब कहर के तूफ़ान मुस्लिम महिलाओं पर बहुत बड़ी संख्या में ढा चुका ,पर यही सोचकर संतोष कर लेते हैं कि ''चलो कुफ्र टूटा ख़ुदा ख़ुदा करके ''.
      ''तीन तलाक '' मुस्लिम महिलाओं के लिए जीवन में एक नश्तर के समान है ,नाग के काटने के समान है जिसका काटा कभी पानी नहीं मांगता ,साइनाइड जहर के समान है जिसका क्या स्वाद है उसे खाने वाला व्यक्ति कागज पेन्सिल लेकर लिखने की इच्छा लेकर उसे चाहकर  भी नहीं लिख पाता,ऐसा विनाशकारी प्रभाव रखने वाला शब्द ''तीन तलाक'' मुस्लिम महिलाओं के जीवन की त्रासदी है .अच्छी खासी चलती शादी-शुदा ज़िन्दगी एक क्षण में तहस-नहस हो जाती है .पति का तलाक-तलाक-तलाक शब्द का उच्चारण पत्नी के सुखी खुशहाल जीवन का अंत कर जाता है और कहीं कोई हाथ मदद को नहीं आ पाता क्योंकि मुस्लिम शरीयत कानून पति को ये इज़ाज़त देता है .
       कानून का जो मजाक मुस्लिम शरीयत कानून में उड़ाया गया है ऐसा किसी भी अन्य धर्म में नज़र नहीं आता .बराबरी का अधिकार देने की बात कर मुस्लिम धर्म में महिलाओं को निम्नतम स्तर पर उतार दिया गया है .मुस्लिम महिलाओं को मिले हुए मेहर के अधिकार की चर्चा उनके पुरुषों की बराबरी के रूप में की जाती है फिर निकाह के समय '' क़ुबूल है '' भी महिलाओं की ताकत के रूप में वर्णित किया जाता है किन्तु यदि हम गहनता से इन दोनों पहलुओं का विश्लेषण करें तो ये दोनों ही इसे संविदा का रूप दे देते हैं .और मुस्लिम विधि के बड़े बड़े जानकार इस धर्म की विवाह संस्था को संविदा का ही नाम देते हैं .बेली के सार-संग्रह में विवाह की परिभाषा स्त्री-पुरुष के समागम को वैध बनाने और संतान उत्पन्न करने के प्रयोजन के लिए की गयी संविदा के रूप में की गयी है .[BAILLIE : डाइजेस्ट ,पेज ९४.]
       असहाब का कथन है -''विवाह स्त्री और पुरुष की ओर से पारस्परिक अनुमति पर आधारित स्थायी सम्बन्ध में अन्तर्निहित संविदा है .''
     कुछ लेखकों और विधिशास्त्रियों ने मुस्लिम विवाह को केवल सिविल संविदा बताया है और उनके अनुसार इसमें संविदा के सभी आवश्यक लक्षण मिलते हैं .उदाहरण के लिए -
 १- विवाह में संविदा की ही तरह एक पक्ष द्वारा प्रस्ताव [इज़ाब ]और दूसरे पक्ष द्वारा स्वीकृति [कबूल ]होना आवश्यक है .इसके अलावा शादी कभी भी स्वतंत्र सहमति के बिना नहीं हो सकती है और ऐसी सहमति प्रपीड़न ,कपट अथवा असम्यक प्रभाव द्वारा प्राप्त नहीं होनी चाहिए .
२-यदि कोई संविदा अवयस्क की ओर से उसका अभिभावक करता है तब अवयस्क को यह अधिकार होता है कि वयस्क होने के बाद उसे निरस्त कर सकता है ,ठीक उसी प्रकार मुस्लिम विधि में भी वयस्क होने पर शादी निरस्त हो सकती है यदि वह अवयस्क होने पर संरक्षक द्वारा की गयी थी .
३-यदि मुस्लिम विवाह के पक्षकार विवाह संस्कार के पश्चात् ऐसा अनुबंध करते हैं जो युक्तियुक्त और इस्लाम विधि की नीतियों के विरुद्ध न हो तब विधि द्वारा प्रवर्तनीय होता है .इसी प्रकार की स्थिति संविदा में होती है .
       महत्वपूर्ण वाद अब्दुल क़ादिर  बनाम सलीमन [१८४६]८ इला.१४९ में न्यायाधीश महमूद ने और न्यायाधीश मित्तर ने सबरून्निशा के वाद में मुस्लिम विवाह को संविदात्मक दायित्व के रूप में बल दिया है और मुस्लिम विवाह को विक्रय संविदा के समान बताया है .
       मुस्लिम विवाह की प्रकृति का वर्णन करते हुए न्यायाधीश महमूद ने कहा -
'' मुसलमान लोगों में शादी एक संस्कार नहीं है अपितु पूर्ण रूप से एक सिविल संविदा है यघपि सामान्य रूप में शादी संपन्न होते समय कुरान का सुपठंन  किया जाता है फिर भी मुस्लिम विधि में इस विशिष्ट अवसर के लिए विशिष्ट सेवा सम्बंधित कोई प्रावधान नहीं है .यह परिलक्षित होता है कि विभिन्न दशाओं में जिसके अन्तर्गत शादी संपन्न होती है अथवा शादी की संविदा की उपधारणा की जाती है वह एक सिविल संविदा है .सिविल संविदा होने के उपरांत लिखित रूप से संविदा हो आवश्यक नहीं है .एक पक्षकार द्वारा इस सम्बन्ध में घोषणा अथवा कथन और दूसरे पक्षकार द्वारा सहमति और स्वीकृति होनी चाहिए अथवा उसके प्राकृतिक या विधिक अभिभावक द्वारा सहमति दी जानी चाहिए .यह सहमति सक्षम और साक्षीगण के सम्मुख व्यक्त होनी चाहिए .इसके अलावा परिस्थितियों के अनुसार निश्चित प्रतिबन्ध भी आरोपित किये जा सकते हैं .''
    सिर्फ यही नहीं कि इसमें प्रस्ताव व् स्वीकृति ही संविदा का लक्षण है बल्कि इसमें मेहर के रूप में संविदा की ही तरह प्रतिफल भी दिया जाता है .मुस्लिम विधि में मेहर वह धन है अथवा वह संपत्ति है जो पति द्वारा पत्नी को शादी के प्रतिफल के रूप में दिया जाता है अथवा देने का वचन दिया जाता है ------मुस्लिम विधि में मेहर रोमन विधि के dinatio  propter  nuptias  के समरूप है जिसे अंग्रेजी विधि में वैवाहिक अनुबंध के नाम से जाना जाता है .
     मुस्लिम विवाह संपन्न होने के समय किसी प्रकार का धार्मिक अनुष्ठान विधितः आवश्यक नहीं है .विवाह के समय काज़ी  या मुल्ला की उपस्थिति भी आवश्यक नहीं है किन्तु ये विवाह वैध व् मान्य तभी  है जब कुछ आवश्यक शर्तों का पालन हो जाये .अन्य संविदाओं के समान विवाह भी प्रस्ताव [इज़ाब ] एवं स्वीकृति [कबूल ] से पूर्ण होता है .यह आवश्यक है कि विवाह का एक पक्षकार दूसरे पक्षकार से विवाह करने का प्रस्ताव करे .जब दूसरा पक्षकार प्रस्ताव की स्वीकृति दे देता है तभी विवाह पूर्ण होता है इस प्रकार यही निष्कर्ष सही दिखाई देता है -
''कि व्यावहारिक संस्था के रूप में विवाह की वही स्थिति है जो किसी अन्य संविदा की .''[अमीर अली ]
     मुस्लिम विवाह संविदा है ये तो इन विधिवेत्ताओं की रे से व् न्यायालयों के निर्णयों से स्पष्ट हो चुका है पर मजाक यहाँ ये है कि यहाँ बराबरी की बात कहकर भी बराबरी कहाँ दिखाई गयी है .मुस्लिम  विधि में जब निकाह के वक़्त प्रस्ताव व् स्वीकृति को महत्व दिया गया तो तलाक के समय केवल मर्द को ही तलाक कहने का अधिकार क्यों दिया गया .संविदा तो जब करने का अधिकार दोनों का है तो तोड़ने का अधिकार भी तो दोनों को ही मिलना चाहिए था लेकिन इनका तलाक के सम्बन्ध में कानून महिला व् पुरुष में भेद करता है और पुरुषों को अधिकार ज्यादा देता है और ये तीन तलाक जिस कानून के अन्तर्गत दिया जाता है वह है -तलाक -उल-बिद्दत -
" तलाक - उल - बिददत को तलाक - उल - बैन के नाम से भी जाना जाता है. यह तलाक का निंदित या पापमय रूप है. विधि की कठोरता से बचने के लिए तलाक की यह अनियमित रीति ओमेदिया लोगों ने हिज्रा की दूसरी शताब्दी में जारी की थी. शाफई और हनफी विधियां तलाक - उल - बिददत को मान्यता देती हैं यघपि वे उसे पापमय समझते हैं. शिया और मलिकी विधियां तलाक के इस रूप को मान्यता ही नहीं देती. तलाक की यह रीति नीचे लिखी बातों की अपेक्षा करती है -
1- एक ही तुहर के दौरान किये गये तीन उच्चारण, चाहे ये उच्चारण एक ही वाक्य में हों-"जैसे - मैं तुम्हें तीन बार तलाक देता हूं. " अथवा चाहे ये उच्चारण तीन वाक्यों में हों जैसे -" मैं तुम्हें तलाक देता हूं, मैं तुम्हें तलाक देता हूं, मैं तुम्हें तलाक देता हूं. "
2-एक ही तुहर के दौरान किया गया एक ही उच्चारण, जिससे रद्द न हो सकने वाला विवाह विच्छेद का आशय साफ प्रकट हो :जैसे" मैं तुम्हें रद्द न हो सकने वाला तलाक देता हूं."
  और अमान्य व् निंदित होते हुए भी ये तलाक आज ही नहीं बहुत पहले से मुस्लिम महिलाओं की ज़िन्दगी को तहस नहस कर रहा है .इलाहाबाद हाई कोर्ट इनके मामले को लेकर भले ही संवेदनशील दिखाई दे लेकिन हमारा इतिहास साक्षी रहा है कि अंग्रेजों ने भी इनके पर्सनल कानून में कभी कोई दखलंदाजी नहीं की और सुप्रीम कोर्ट में भी हमें नहीं लगता कि कोई दखलंदाजी इसमें की जाएगी और इसमें कोई फेरबदल हो पायेगा .कमल फारूकी जो इस वक़्त आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य हैं वे इसे अपना संवैधानिक अधिकार मानते हैं और कहते हैं -'' तीन तलाक का मसला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है .लिहाजा शीर्ष  अदालत ही अंतिम फैसला देगी .तीन तलाक का मसला सिर्फ मुस्लिमों तक सीमित नहीं है .यह उन सभी धर्मों  का सवाल है जिन्हें संविधान के मुताबिक अपनी आस्था और धर्म का पालन करने की गारंटी दी गयी है .''
   इसलिए नहीं लगता कि इस देश में मुस्लिम महिलाओं का उत्पीडन कभी रुक पायेगा क्योंकि यहाँ दूसरे के कानून में हस्तक्षेप  संविधान के मुताबिक ही गैरकानूनी है भले ही वह उसी धर्म की महिलाओं का जीवन नरक बना रहा हो .
शालिनी कौशिक 


    [कौशल  ]

शुक्रवार, 25 नवंबर 2016

योग से खर्राटो से छुटकारा पाये

                                           

खर्राटे...........सोते समय नाक से तेज आवाज निकलना ही खर्राटे है अर्थात नींद में साॅस मे अवरोध उत्पन्न होना ।खर्राटे आना अच्छे स्वास्थ्य का सूचक नही है खर्राटे जी हां जो आपके स्वास्थ्य के ही नही अपितु आपके आस पास सोने वालो की नींद के भी दुष्मन है खर्राटे जो रात भर आपको सोने नही देते, साथ ही पास में सोये हुए व्यक्ति की नींद में भी खलल डालते है। कही बार खर्राटे आपसी रिष्तेेो के बीच अलगाव का कारण भी बन जाते है। समय रहते इसको रोकना जरूरी है कई लोग सोचते है खर्राटे गहरी नींद के कारण आते है लेकिन ऐसा सोचना गलत है ।ष्ष्वास नली में सिकुडन भी खर्राटे का कारण है। सीधा सोने के कारण,नाक की हड्डी का टेढा होना ,वजन ज्यादा होना आदि कारण भी हो सकते है।यौगिक क्रियाओ व आसनो के द्धारा खर्राटेा से छुटकारा पाया जा सकता है ।योग के माध्यम से ष्वास नली में वसा के जमाव को रोका जासकता है।आप सीधा सोते है तो खर्राटे ज्यादा आते हैं इसके लिए आप हमेषा करवट बदल के सोये ।कपाल भांती व अनुलोम विलोम प्राणायाम 15से 20 मिनट व उज्जायी प्राणायाम 7से 11बार  नियमित करने से सौ प्रतिषत इस समस्या सेे छुटकारा पाया जा सकता है।देषी गाय के दूध से बने घी को दोनो नासिकाओं में डालने से गहरी नींद आयेगी, खर्राटे बंद होगे,साथ ही माइग्रेन की समस्या से छुटकारा मिलेगा।
शीर्षासन-यह आसन दीवार के सहारे करे ,फायदा होगा।
ंिसंहासन -व्रजासन में बैठकर घुटनों  को थोडा खोलकर दोनो हाथों को जमीन पर रखते हुए हाथों की अंगुलिया पीछे की ओर करके पैरो के बीच हाथों को सीधा रखे ।लंबा गहरा ष्ष्वास भरकर जीभ को बाहर  निकालते हुए ,दोनों आॅखो से भूमध्य में देखते हुए मुॅह को यथासंभव खोल दे।इसके बाद साॅस को बाहर निकालते हुए सिंह की तरह गर्जना करनी है यह आसन 10 से 15 बार करे।यह खर्राटे में सर्वोतम आसन है।
ओ्म का उच्चारण 5से 11 बार करे ।
प्रेशर पांइट-सुखासन में बैठकर बाॅये हाथ से ज्ञान मुद्रा बनाकर दाॅये हाथ की तर्जनी अंगुली से उपर वाले होठों के बीचों बीच नाक के बिल्कुल नीचे वाले पांइट पर एक मिनट का प्रेषर दें। इसे पांच से दस बार अवष्य करे।यह रामबाण का काम करेगी।
                                       भुवनेष्वरी मालोत
                                         जिला प्रभारी
                                       पंतजलि महिला योग समिति
                                        बाॅसवाडा राज.