शनिवार, 10 दिसंबर 2016

मुस्लिम महिला की स्थिति मजाक !

भारतीय नारी ब्लॉग की माननीया सदस्य सुश्री शालिनी कौशिक जी का महत्वपूर्ण आलेख -

triple talaq debate, Uniform Civil Code, Muslim personal law, Talaq-e-bidat, nikah halala meaning, supreme court, supreme court on triple talaq, PK Modinikah halala muslim, india newsImage result for woman in burka images

 इलाहाबाद हाई कोर्ट ने तीन तलाक के मुद्दे पर तल्ख़ टिप्पणी करते हुए कहा -''मुस्लिम महिलाओं से क्रूरता है तीन तलाक ''.आरम्भ से हम सुनते आये कि मुसलमानों में बस पति ने कहा ''तलाक-तलाक-तलाक'' और हो गया तलाक ,आज ये मुद्दा चर्चाओं में आया है जब कहर के तूफ़ान मुस्लिम महिलाओं पर बहुत बड़ी संख्या में ढा चुका ,पर यही सोचकर संतोष कर लेते हैं कि ''चलो कुफ्र टूटा ख़ुदा ख़ुदा करके ''.
      ''तीन तलाक '' मुस्लिम महिलाओं के लिए जीवन में एक नश्तर के समान है ,नाग के काटने के समान है जिसका काटा कभी पानी नहीं मांगता ,साइनाइड जहर के समान है जिसका क्या स्वाद है उसे खाने वाला व्यक्ति कागज पेन्सिल लेकर लिखने की इच्छा लेकर उसे चाहकर  भी नहीं लिख पाता,ऐसा विनाशकारी प्रभाव रखने वाला शब्द ''तीन तलाक'' मुस्लिम महिलाओं के जीवन की त्रासदी है .अच्छी खासी चलती शादी-शुदा ज़िन्दगी एक क्षण में तहस-नहस हो जाती है .पति का तलाक-तलाक-तलाक शब्द का उच्चारण पत्नी के सुखी खुशहाल जीवन का अंत कर जाता है और कहीं कोई हाथ मदद को नहीं आ पाता क्योंकि मुस्लिम शरीयत कानून पति को ये इज़ाज़त देता है .
       कानून का जो मजाक मुस्लिम शरीयत कानून में उड़ाया गया है ऐसा किसी भी अन्य धर्म में नज़र नहीं आता .बराबरी का अधिकार देने की बात कर मुस्लिम धर्म में महिलाओं को निम्नतम स्तर पर उतार दिया गया है .मुस्लिम महिलाओं को मिले हुए मेहर के अधिकार की चर्चा उनके पुरुषों की बराबरी के रूप में की जाती है फिर निकाह के समय '' क़ुबूल है '' भी महिलाओं की ताकत के रूप में वर्णित किया जाता है किन्तु यदि हम गहनता से इन दोनों पहलुओं का विश्लेषण करें तो ये दोनों ही इसे संविदा का रूप दे देते हैं .और मुस्लिम विधि के बड़े बड़े जानकार इस धर्म की विवाह संस्था को संविदा का ही नाम देते हैं .बेली के सार-संग्रह में विवाह की परिभाषा स्त्री-पुरुष के समागम को वैध बनाने और संतान उत्पन्न करने के प्रयोजन के लिए की गयी संविदा के रूप में की गयी है .[BAILLIE : डाइजेस्ट ,पेज ९४.]
       असहाब का कथन है -''विवाह स्त्री और पुरुष की ओर से पारस्परिक अनुमति पर आधारित स्थायी सम्बन्ध में अन्तर्निहित संविदा है .''
     कुछ लेखकों और विधिशास्त्रियों ने मुस्लिम विवाह को केवल सिविल संविदा बताया है और उनके अनुसार इसमें संविदा के सभी आवश्यक लक्षण मिलते हैं .उदाहरण के लिए -
 १- विवाह में संविदा की ही तरह एक पक्ष द्वारा प्रस्ताव [इज़ाब ]और दूसरे पक्ष द्वारा स्वीकृति [कबूल ]होना आवश्यक है .इसके अलावा शादी कभी भी स्वतंत्र सहमति के बिना नहीं हो सकती है और ऐसी सहमति प्रपीड़न ,कपट अथवा असम्यक प्रभाव द्वारा प्राप्त नहीं होनी चाहिए .
२-यदि कोई संविदा अवयस्क की ओर से उसका अभिभावक करता है तब अवयस्क को यह अधिकार होता है कि वयस्क होने के बाद उसे निरस्त कर सकता है ,ठीक उसी प्रकार मुस्लिम विधि में भी वयस्क होने पर शादी निरस्त हो सकती है यदि वह अवयस्क होने पर संरक्षक द्वारा की गयी थी .
३-यदि मुस्लिम विवाह के पक्षकार विवाह संस्कार के पश्चात् ऐसा अनुबंध करते हैं जो युक्तियुक्त और इस्लाम विधि की नीतियों के विरुद्ध न हो तब विधि द्वारा प्रवर्तनीय होता है .इसी प्रकार की स्थिति संविदा में होती है .
       महत्वपूर्ण वाद अब्दुल क़ादिर  बनाम सलीमन [१८४६]८ इला.१४९ में न्यायाधीश महमूद ने और न्यायाधीश मित्तर ने सबरून्निशा के वाद में मुस्लिम विवाह को संविदात्मक दायित्व के रूप में बल दिया है और मुस्लिम विवाह को विक्रय संविदा के समान बताया है .
       मुस्लिम विवाह की प्रकृति का वर्णन करते हुए न्यायाधीश महमूद ने कहा -
'' मुसलमान लोगों में शादी एक संस्कार नहीं है अपितु पूर्ण रूप से एक सिविल संविदा है यघपि सामान्य रूप में शादी संपन्न होते समय कुरान का सुपठंन  किया जाता है फिर भी मुस्लिम विधि में इस विशिष्ट अवसर के लिए विशिष्ट सेवा सम्बंधित कोई प्रावधान नहीं है .यह परिलक्षित होता है कि विभिन्न दशाओं में जिसके अन्तर्गत शादी संपन्न होती है अथवा शादी की संविदा की उपधारणा की जाती है वह एक सिविल संविदा है .सिविल संविदा होने के उपरांत लिखित रूप से संविदा हो आवश्यक नहीं है .एक पक्षकार द्वारा इस सम्बन्ध में घोषणा अथवा कथन और दूसरे पक्षकार द्वारा सहमति और स्वीकृति होनी चाहिए अथवा उसके प्राकृतिक या विधिक अभिभावक द्वारा सहमति दी जानी चाहिए .यह सहमति सक्षम और साक्षीगण के सम्मुख व्यक्त होनी चाहिए .इसके अलावा परिस्थितियों के अनुसार निश्चित प्रतिबन्ध भी आरोपित किये जा सकते हैं .''
    सिर्फ यही नहीं कि इसमें प्रस्ताव व् स्वीकृति ही संविदा का लक्षण है बल्कि इसमें मेहर के रूप में संविदा की ही तरह प्रतिफल भी दिया जाता है .मुस्लिम विधि में मेहर वह धन है अथवा वह संपत्ति है जो पति द्वारा पत्नी को शादी के प्रतिफल के रूप में दिया जाता है अथवा देने का वचन दिया जाता है ------मुस्लिम विधि में मेहर रोमन विधि के dinatio  propter  nuptias  के समरूप है जिसे अंग्रेजी विधि में वैवाहिक अनुबंध के नाम से जाना जाता है .
     मुस्लिम विवाह संपन्न होने के समय किसी प्रकार का धार्मिक अनुष्ठान विधितः आवश्यक नहीं है .विवाह के समय काज़ी  या मुल्ला की उपस्थिति भी आवश्यक नहीं है किन्तु ये विवाह वैध व् मान्य तभी  है जब कुछ आवश्यक शर्तों का पालन हो जाये .अन्य संविदाओं के समान विवाह भी प्रस्ताव [इज़ाब ] एवं स्वीकृति [कबूल ] से पूर्ण होता है .यह आवश्यक है कि विवाह का एक पक्षकार दूसरे पक्षकार से विवाह करने का प्रस्ताव करे .जब दूसरा पक्षकार प्रस्ताव की स्वीकृति दे देता है तभी विवाह पूर्ण होता है इस प्रकार यही निष्कर्ष सही दिखाई देता है -
''कि व्यावहारिक संस्था के रूप में विवाह की वही स्थिति है जो किसी अन्य संविदा की .''[अमीर अली ]
     मुस्लिम विवाह संविदा है ये तो इन विधिवेत्ताओं की रे से व् न्यायालयों के निर्णयों से स्पष्ट हो चुका है पर मजाक यहाँ ये है कि यहाँ बराबरी की बात कहकर भी बराबरी कहाँ दिखाई गयी है .मुस्लिम  विधि में जब निकाह के वक़्त प्रस्ताव व् स्वीकृति को महत्व दिया गया तो तलाक के समय केवल मर्द को ही तलाक कहने का अधिकार क्यों दिया गया .संविदा तो जब करने का अधिकार दोनों का है तो तोड़ने का अधिकार भी तो दोनों को ही मिलना चाहिए था लेकिन इनका तलाक के सम्बन्ध में कानून महिला व् पुरुष में भेद करता है और पुरुषों को अधिकार ज्यादा देता है और ये तीन तलाक जिस कानून के अन्तर्गत दिया जाता है वह है -तलाक -उल-बिद्दत -
" तलाक - उल - बिददत को तलाक - उल - बैन के नाम से भी जाना जाता है. यह तलाक का निंदित या पापमय रूप है. विधि की कठोरता से बचने के लिए तलाक की यह अनियमित रीति ओमेदिया लोगों ने हिज्रा की दूसरी शताब्दी में जारी की थी. शाफई और हनफी विधियां तलाक - उल - बिददत को मान्यता देती हैं यघपि वे उसे पापमय समझते हैं. शिया और मलिकी विधियां तलाक के इस रूप को मान्यता ही नहीं देती. तलाक की यह रीति नीचे लिखी बातों की अपेक्षा करती है -
1- एक ही तुहर के दौरान किये गये तीन उच्चारण, चाहे ये उच्चारण एक ही वाक्य में हों-"जैसे - मैं तुम्हें तीन बार तलाक देता हूं. " अथवा चाहे ये उच्चारण तीन वाक्यों में हों जैसे -" मैं तुम्हें तलाक देता हूं, मैं तुम्हें तलाक देता हूं, मैं तुम्हें तलाक देता हूं. "
2-एक ही तुहर के दौरान किया गया एक ही उच्चारण, जिससे रद्द न हो सकने वाला विवाह विच्छेद का आशय साफ प्रकट हो :जैसे" मैं तुम्हें रद्द न हो सकने वाला तलाक देता हूं."
  और अमान्य व् निंदित होते हुए भी ये तलाक आज ही नहीं बहुत पहले से मुस्लिम महिलाओं की ज़िन्दगी को तहस नहस कर रहा है .इलाहाबाद हाई कोर्ट इनके मामले को लेकर भले ही संवेदनशील दिखाई दे लेकिन हमारा इतिहास साक्षी रहा है कि अंग्रेजों ने भी इनके पर्सनल कानून में कभी कोई दखलंदाजी नहीं की और सुप्रीम कोर्ट में भी हमें नहीं लगता कि कोई दखलंदाजी इसमें की जाएगी और इसमें कोई फेरबदल हो पायेगा .कमल फारूकी जो इस वक़्त आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य हैं वे इसे अपना संवैधानिक अधिकार मानते हैं और कहते हैं -'' तीन तलाक का मसला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है .लिहाजा शीर्ष  अदालत ही अंतिम फैसला देगी .तीन तलाक का मसला सिर्फ मुस्लिमों तक सीमित नहीं है .यह उन सभी धर्मों  का सवाल है जिन्हें संविधान के मुताबिक अपनी आस्था और धर्म का पालन करने की गारंटी दी गयी है .''
   इसलिए नहीं लगता कि इस देश में मुस्लिम महिलाओं का उत्पीडन कभी रुक पायेगा क्योंकि यहाँ दूसरे के कानून में हस्तक्षेप  संविधान के मुताबिक ही गैरकानूनी है भले ही वह उसी धर्म की महिलाओं का जीवन नरक बना रहा हो .
शालिनी कौशिक 


    [कौशल  ]

शुक्रवार, 25 नवंबर 2016

योग से खर्राटो से छुटकारा पाये

                                           

खर्राटे...........सोते समय नाक से तेज आवाज निकलना ही खर्राटे है अर्थात नींद में साॅस मे अवरोध उत्पन्न होना ।खर्राटे आना अच्छे स्वास्थ्य का सूचक नही है खर्राटे जी हां जो आपके स्वास्थ्य के ही नही अपितु आपके आस पास सोने वालो की नींद के भी दुष्मन है खर्राटे जो रात भर आपको सोने नही देते, साथ ही पास में सोये हुए व्यक्ति की नींद में भी खलल डालते है। कही बार खर्राटे आपसी रिष्तेेो के बीच अलगाव का कारण भी बन जाते है। समय रहते इसको रोकना जरूरी है कई लोग सोचते है खर्राटे गहरी नींद के कारण आते है लेकिन ऐसा सोचना गलत है ।ष्ष्वास नली में सिकुडन भी खर्राटे का कारण है। सीधा सोने के कारण,नाक की हड्डी का टेढा होना ,वजन ज्यादा होना आदि कारण भी हो सकते है।यौगिक क्रियाओ व आसनो के द्धारा खर्राटेा से छुटकारा पाया जा सकता है ।योग के माध्यम से ष्वास नली में वसा के जमाव को रोका जासकता है।आप सीधा सोते है तो खर्राटे ज्यादा आते हैं इसके लिए आप हमेषा करवट बदल के सोये ।कपाल भांती व अनुलोम विलोम प्राणायाम 15से 20 मिनट व उज्जायी प्राणायाम 7से 11बार  नियमित करने से सौ प्रतिषत इस समस्या सेे छुटकारा पाया जा सकता है।देषी गाय के दूध से बने घी को दोनो नासिकाओं में डालने से गहरी नींद आयेगी, खर्राटे बंद होगे,साथ ही माइग्रेन की समस्या से छुटकारा मिलेगा।
शीर्षासन-यह आसन दीवार के सहारे करे ,फायदा होगा।
ंिसंहासन -व्रजासन में बैठकर घुटनों  को थोडा खोलकर दोनो हाथों को जमीन पर रखते हुए हाथों की अंगुलिया पीछे की ओर करके पैरो के बीच हाथों को सीधा रखे ।लंबा गहरा ष्ष्वास भरकर जीभ को बाहर  निकालते हुए ,दोनों आॅखो से भूमध्य में देखते हुए मुॅह को यथासंभव खोल दे।इसके बाद साॅस को बाहर निकालते हुए सिंह की तरह गर्जना करनी है यह आसन 10 से 15 बार करे।यह खर्राटे में सर्वोतम आसन है।
ओ्म का उच्चारण 5से 11 बार करे ।
प्रेशर पांइट-सुखासन में बैठकर बाॅये हाथ से ज्ञान मुद्रा बनाकर दाॅये हाथ की तर्जनी अंगुली से उपर वाले होठों के बीचों बीच नाक के बिल्कुल नीचे वाले पांइट पर एक मिनट का प्रेषर दें। इसे पांच से दस बार अवष्य करे।यह रामबाण का काम करेगी।
                                       भुवनेष्वरी मालोत
                                         जिला प्रभारी
                                       पंतजलि महिला योग समिति
                                        बाॅसवाडा राज.  

रविवार, 20 नवंबर 2016

मुझे खामोश रहने दो


मेरे दिल में बहुत शोले
मुझे खामोश रहने दो,
लबों पर आ गये तो
आग दुनिया में लगा देंगे !

उबलते हैं उफनते हैं
बगावत के समन्दर जो,
अगर दिल चीर कर रख दूं
ये दुनिया को बहा देंगे !

तेरी जिद है बनाना
मुझको अपने पैर की जूती,
हमारे हौसले सरताज
दुनिया का बना देंगे !

नहीं मिट सकती है हस्ती
कभी औरत की दुनिया से,
हम अपने दुश्मनों का नाम
दुनिया से मिटा देंगे !

तुम्हारे जुल्म है नूतन
हद - ए- बर्दाश्त से बाहर,
पलट कर वार मेरे आज
दुनिया को हिला देंगे !

dr.shikha kaushik 

गुरुवार, 17 नवंबर 2016

एक नए भारत का सृजन

एक नए भारत का सृजन 

केन्द्र सरकार द्वारा पुराने 500 और 1000 के नोटों का चलन बन्द करने एवं नए 2000 के नोटों के चलन से पूरे देश में थोड़ी बहुत अव्यवस्था का माहौल है। आखिर इतना बड़ा देश जो कि विश्व में सबसे अधिक जनसंख्या वाले देशों में दूसरे स्थान पर हो थोड़ी बहुत अव्यवस्था तो होगी ही।
राष्ट्र के नाम अपने उद्बोधन में प्रधानमंत्री ने यह विश्वास जताया  था कि इस पूरी प्रक्रिया में देशवासियों को तकलीफ तो होगी लेकिन इस देश के आम आदमी को भ्रष्टाचार और कुछ दिनों की असुविधा में से चुनाव करना हो तो वे निश्चित ही असुविधा को चुनेंगे और वे सही थे।
आज इस देश का आम नागरिक परेशानी के बावजूद प्रधानमंत्री जी के साथ है जो कि इस देश के उज्ज्वल भविष्य की ओर संकेत करता है।
यह बात सही है कि केवल कुछ नोटों को बन्द कर देने से भ्रष्टाचार समाप्त नहीं हो सकता इसलिए प्रधानमंत्री जी ने यह स्पष्ट किया है कि काला धन उन्मूलन के लिए अभी उनके तरकश से और तीर आना बाकी हैं।
भ्रष्टाचार इस देश में बहुत ही गहरी पैठ बना चुका था। आम आदमी भ्रष्टाचार के आगे बेबस था यहाँ तक कि भ्रष्टाचार हमारे देश के सिस्टम का हिस्सा बन चुका था जिस प्रकार हमारे देश में काले धन की समानांतर अर्थव्यवस्था चल रही थी उसी प्रकार सरकारी तंत्र में भ्रष्टाचारियों द्वारा एक समानांतर  सरकार चलायी जा रही थी।
नेताओं सरकारी अधिकारियों बड़े बड़े कारपोरेट घरानों का तामझाम इसी काले धन पर चलता था। अमीरों और गरीबों के बीच की खाई लगातार बढ़ती जा रही थी।
यह इस देश का दुर्भाग्य है कि विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र होते हुए भी 70 सालों तक जनता द्वारा चुनी हुई सरकार के बावजूद देश आगे जाने की बजाय पीछे ही गया है।
आप इसे क्या कहेंगे कि आजादी के 70 सालों बाद भी इस देश में बेसिक इन्फ्रास्ट्रकचर की कमी है  ?
गाँवों को छोड़िये शहरों तक में पीने का साफ पानी मिलना मुश्किल है !
आज भी कई प्रदेशों   के शहरों तक में 24 घंटे बिजली सप्लाई   एक स्वप्न है  ?
1947
से लेकर आज तक 2016 में हमारे गांवों में लोग आज भी खुले में शौच जाते हैं  !
हमारी सबसे पवित्र नदी जिसे हम मोक्षदायिनी माँ गंगा कहते हैं वो एक नाले में तब्दील हो चुकी है  ?
आजादी के बाद से अब तक हमारे देश में इतने घोटाले हुए हमारी सरकारों ने जाँच भी की लेकिन फिर क्या? क्या किसी एक को भी सज़ा हुई  ? एक भी नेता जेल गया ? क्या घोटाले होने बन्द हो गए  ?
यहाँ पर कुछ तथ्यों का उल्लेख उन बुद्धिजीवियों के लिए आवश्यक है जो विदेशों में जमा काले धन को मुद्दा बने रहे हैं कि 2004 तक स्विस बैंकों में जमा धन के मामले में भारत 37 वें न० पर था । 2007 तक भारत 50 देशों में था लेकिन 2016 में यह 75वें स्थान पर पहुँच गया है। स्विस बैंकों में भारत का धन लगभग 4% कम हो गया है ।ताजा रिपोर्ट के अनुसार स्विस बैंकों में भारत का धन वहाँ कुल जमा धन का मात्र 0.1% रह गया है।
केंद्र सरकार ने काला धन रखने वाले 60 लोगों की सूची तैयार की है जिनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई शुरू कर दी गई है, यह सभी बड़े बड़े कारपोरेट घरानों से जुड़े हैं।
विदेशों से काला धन वापस लाना या फिर उन लोगों को भारत वापस लाना भारत सरकार के लिए मुश्किल है जो कि घोटाले कर के विदेश भाग गए हैं क्योंकि इसमें दूसरे देश का कानून काम करता है और हमारी सरकार दूसरे देश के कानूनी मामलों में हस्तक्षेप नहीं कर सकती  । इसलिए भारत सरकार  स्विजरलैंड समेत अन्य कई देशों से ऐसे मामलों के लिए सन्धी कर रही है जिससे कि ऐसे मामलों में आरोपी दूसरे देशों के कानून की आड़ में बच नहीं पाए और वहाँ की सरकारों का सहयोग भारत सरकार को प्राप्त हो।
कुछ लोग ऊर्जित पटेल के हस्ताक्षर पर सवाल उठा रहे हैं कि जब 6 महीनों से नए नोट छप रहे थे और इन्होंने कार्यभार सितंबर में संभाला तो नए नोटों पर इनके हस्ताक्षर कैसे हैं 
तो हम सभी के लिए यह जानना आवश्यक है कि नोटों की छपाई अनेक प्रक्रियाओं से गुजरती है डिजाइनिंग से लेकर पेपर तैयार करने तक , तो नए नोट बनाने की प्रक्रिया भले ही 6 महीने पहले शुरू हुई थी लेकिन छपाई का काम ऊर्जित पटेल के कार्यभार ग्रहण करने के बाद ही शुरू हुआ  (आई बी टी टाइम्स )
अब अगर एक आदमी जो कि इस देश का प्रधानमंत्री है , इस देश को आशवासन दे रहा है कि उसे 50 दिन का समय दीजिए उसके बाद जिस चौराहे पर जो सज़ा देनी हो दे देना  तो ऐसा क्यों है कि हम किसी एक पार्टी को 70 साल तो दे सकते हैं लेकिन एक प्रधानमंत्री को 50 दिन भी नहीं ?
पत्रकारिता को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है  ।सभी जानते हैं कि कलम की ताकत तलवार से ज्यादा होती है तो क्या यह बेहतर नहीं होता कि देश निर्माण के मौजूदा समय में अपनी इस ताकत का प्रयोग यह स्तंभ  देश की भलाई और लोगों को सहयोग करने के लिए प्रेरित करने में लगाता ? सरकार के इस कदम से उनको और देश को होने वाले फायदे बताता बनिस्बत उन्हें उकसाने के जैसा कि कुछ लोग कर रहे हैं  !
आज अखबारों और न्यूज़ चैनलों में आम आदमी की तकलीफ को हेडलाइन बनाया जा रहा है। आप सभी से एक सवाल क्या इससे पहले हमारे देश में खुशहाली थी  ?
क्या कोई भूखा नहीं सोता था  ?
क्या किसानों द्वारा आत्महत्याएं नहीं होती थीं ?
क्या हमारा कोई भी युवा बेरोजगार नहीं था  ?
क्या राशन की दुकानों में कभी लाइनें नहीं लगीं  ?
क्या बरसातों में हमारी राजधानी समेत अनेक बड़े बड़े शहर पानी की व्यवस्थित निकासी न होने के कारण बाढ़ का शिकार नहीं हो जाते  ?
क्या किसी भी सरकारी दफतर में आम आदमी का काम एक बार में बिना पहचान या रिश्वत के हो जाता था ?
हमारे इस आम आदमी का कष्ट आपको 70 साल से नहीं दिख रहा था ? इन कष्टों से उस आम आदमी का जीवन परेशानियों से भर रहा था उसका सामाजिक स्तर भी गिर रहा था  उसकी मेहनत की कमाई रिश्वत में जा रही थी  ।कोई उसे सुनने वाला नहीं था और वो थकहार कर इन सब कष्टों को अपने जीवन का हिस्सा मानकर स्वीकार कर चुका था  ।लेकिन किसी ने इस आम आदमी के दर्द को अपनी आवाज़ नहीं दी  !
आज वह आम आदमी लाइन में खुशी से खड़ा है , एक बेहतर कल की आस में वो अपना आज कुर्बान करने को तैयार है। 
उसे स्वतंत्रता संग्राम याद है जब इस देश का बच्चा बच्चा उस लड़ाई का हिस्सा बनने के लिए तत्पर था 
आज उसे मौका मिला है फिर से एक स्वतंत्रता संग्राम का हिस्सा बनने का  , स्वतंत्रता भ्रष्टाचार से, काले धन से  ,लम्बी कतारों से  , लम्बे इंतजार से  , अरबों करोड़ों के घोटालों से  , तो वह खुशी खुशी इस आंदोलन का हिस्सा बनने को तैयार है ।
वो जानता है कि एक नए भारत का निर्माण हो रहा है और सृजन आसान नहीं होता  , सहनशीलता ,त्याग,समर्पण सभी कुछ लगता है । 70 साल पुरानी जड़ें उखाड़ने में समय और मेहनत दोनों लगेंगे ।यह काम एक अकेला आदमी नहीं कर सकता। देश हमारा है और हमें इसमें अपना सहयोग देना ही होगा 
एक गमले में पौधा भी लगाते हैं तो रोज खाद पानी हवा और धूप देनी पड़ती है और सब्र से प्रतीक्षा करनी पड़ती है तब जाकर वह खिलता है।
एक मादा जानवर भी अपने बच्चे को जन्म देने के लिए सहनशीलता से प्रसव पीड़ा से गुजरती है लेकिन बच्चे का मुख देखते ही अपनी पीड़ा भूल जाती है  ।जब एक जानवर इस बात को समझता है तो हम मानव इस बात को क्यों नहीं समझ पा रहे कि हमारा देश अभी प्रसव पीड़ा से गुजर रहा है थोड़ी तकलीफ़ सह लीजिए  नए भारत का सृजन हो रहा है।
नए भारत के सूर्योदय की पहली किरण निश्चित ही इस पीड़ा को भुला देगी ।

डाँ नीलम महेंद्र 

बुधवार, 5 अक्तूबर 2016

चैनलों ने बिगाड़ी राजस्थानी महिला की छवि

- प्रेम प्रकाश  
सनसनी पैदा करने के चक्कर में मीडिया कई बार ऐसी हिमाकतों से गुजर जाता है, जिसका खामियाजा देश और समाज को आगे लंबे समय तक उठाना पड़ता है। बात करें महिला अपराध की तो यह एक ऐसा संवेदनशील मसला है, जिससे खबरिया आपाधापी में अकसर गंभीर चूक होती है। यह चूक कितनी बड़ी और घातक हो सकती है इसकी मिसाल हाल की जयपुर की एक घटना है। टीवी चैनलों पर आधे-आधे घंटे इस घटना पर विशेष शो दिखाए गए। बताया गया कि एक मां भी हत्यारी हो सकती है और वह भी अपने चार माह के दूधमुंहा बच्ची की। एंकर से लेकर रिपोर्टर इस घटना में एक मां की हिंसक जघन्यता को यह कहते हुए रेखांकित करने में लगे रहे कि कैसे एक मां की ममता इतनी कमजोर पड़ गई कि उसने अपनी गोद में खेलती बेटी की हत्या का फैसला ले लिया। जबकि जो खबर थी उसमें यह तथ्य भी शामिल था कि यह सब उस मां ने क्यों और किस दबाव में किया यह पूरी तरह साफ नहीं। क्योंकि एक अंदेशा यह भी जताया जा रहा कि संभव है कि वह मां ऐसा नहीं करना चाहती हो पर उसके ऊपर इसके लिए दबाव हो। पितृसत्तात्मक समाज में यह दबाव किस तरह पारिवारिक-सामाजिक स्तर पर स्त्री मन को तोड़ता-बदलता है, इसके तो अब कई चौंकाने वाले अध्ययन तक सामने आ चुके हैं। फिर बगैर मामले के पूरी तह में गए अगर किसी की छवि को निर्णायक तौर पर स्याह करार दे दिया जाए और वह भी किसी महिला की तो यह न सिर्फ एक गैरजिम्मेदार बल्कि खुद अपने में हिंसक रवैया है।  इस मामले में महिला मामलों में बरती जाने वाली संवेदनशीलता तो खैर नहीं ही दिखी, अव्वल ऐसी सोच जरूर हावी है कि अगर कोई महिला अपराध करती है तो वह पहली नजर में ही अक्षम्य है, नाकाबिले बर्दाश्त है। पलटकर यह सवाल अगर मीडिया के माननीयों से पूछा जाए कि एक ऐसे दौर में जब हर 18 मिनट में देश की कोई न कोई बेटी किसी पुरुष की हवस का शिकार बन रही है, अदालती हिदायतों और कानूनी सख्ती के बावजूद आधी दुनिया के चेहरे पर एसिड फेंकने की घटनाएं रुकी नहीं हैं, फिर एक महिला के अपराधी होने को लेकर इतनी दिलचस्पी आखिर क्यों? क्या यह दिलचस्पी उसी मानसिकता की देन नहीं है, जिससे महिलाएं घर-परिवार से लेकर कार्यस्थलों पर असुरक्षित हैं, शारीरिक से लेकर मानसिक उत्पीड़न का शिकार हैं।  जयपुर की जिस घटना को लेकर इतनी बातें हो रही हैं, वह घटना 26 अगस्त की है। पुलिस को उस दिन सूचना मिली कि शास्त्रीनगर इलाके मेंएक व्यक्ति की चार माह की बेटी घर में ही रखे हुये एसी कैबिनेट में मृत पायी गई है। मकान में रहने वाले एवं घटना के समय मौजूद लोगों से गहनता से पूछताछ की गयी तो बच्ची की मां की भूमिका पर संदेह हुआ। मृतका बच्ची अपनी मां नेहा के पास अपने बेडरूम में सोई थी। उसके बाद बच्ची लहुलुहान हालात में उसके बेडरूम से कुछ ही दूरी पर स्थित हॉल में रखे लोहे के एसी केबिनेट में मृत पायी गयी। लेकिन बच्ची के एसी केबिनेट में पहुंचने को लेकर मां कुछ भी नहीं बता सकी। अलबत्ता एफएसएल टीम द्बारा जुटाये गए सबूतों में पाया गया कि कि मृतका बच्ची की मां के नाखूनों में रक्त पाया गया व उसके बेडरूम से अटैच बाथरूम में भी रक्त पाया गया। इसमें कहीं दो मत नहीं कि इस दुर्भाग्यपूणã घटना की शुरुआती तफ्सील ही किसी को भी अंदर तक हिला देने वाली है। हर लिहाज से यह घटना पूरी तरह आपवादिक जान पड़ता है क्योंकि ऐसा किसी समान्य सामाजिक-पारिवारिक स्थिति में संभव ही नहीं।  पर दुर्भाग्य से इस आपवादिक खबर में सनसनी देखने वालों ने इस बहाने राजस्थान में बालिका भ्रूण हत्या से लेकर महिलाओं की असुरक्षित स्थिति तक कई नतीजे निकाल लिए। जबकि तथ्य और सच्चाई कुछ और है। राजस्थान में जहां वर्ष 2०11 की जनगणना में ० से 6 वर्ष तक का लिगानुपात महज 888 था, वह 2०15 आते-आते 37 अंक बढ़कर 925 हो गया है। दरअसल, प्रदेश में 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के प्रभावी क्रियान्वयन के साथ ही, लिगानुपात बढ़ाने के लिए विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं। भामाशाह योजना, राजश्री योजना, आपणी बेटी योजना सहित अन्य कई योजनाएं प्रदेश में संचालित की गई हैं, जो महिला सशक्तीकरण की दिशा में महत्वपूर्ण साबित हो रही हैं। साथ ही, जिन परिवारों में बेटी का जन्म होता है, उन्हें मुख्यमंत्री द्बारा हस्ताक्षरित बधाई पत्र भेजा जाता है। प्रदेश में लिगानुपात बढाने के लिये राज्य सरकार द्बारा प्रसव पूर्व लिग जांच की गतिविधियों पर रोक लगाने के लिए अपनी तरह की पहली मुखबिर योजना और जीपीएस युक्त सोनोग्राफी मशीनों जैसे नवाचार किए गए हैं। इन सब योजनाओं के आशातीत परिणाम आए हैं। ऐसे में महज एक खबर की नोक पर राज्य में महिलाओं के लिए सरकार और समाज की सारी तत्परता और बड़ी पहलों को नकार देना कितना गलत और घातक है, समझा जा सकता है।  राजस्थान से निकलकर पूरे देश की बात करें खासतौर पर निर्भया मामले के बाद कई स्तरों पर जागरुकता बढ़ी है। इस दौरान बलात्कार सहित महिलाओं के खिलाफ अपराध को रोकने को लेकर कई वैधानिक सख्तियां भी सरकारें लेकर आई हैं। इससे आगे महिलाएं पूजास्थलों में प्रवेश से रोके जाने जैसी मध्यकालीन सोच को भी समाज से लेकर अदालतों तक चुनौती दे रही हैं। बात करें मौजूदा केंद्र सरकार की तो उसने तो बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ से लेकर स्तनपान को प्रश्रय तक कई बड़े अभिक्रम एक के बाद एक शुरू किए हैं। ऐसे में देश में महिला सम्मान और सुरक्षा की राह पर सरकार और समाज के साथ मीडिया को कदम आगे बढ़ाने की दरकार है। यह दरकार इस लिहाज से जरूरीअमल की मांग करता है क्योंकि आजादी के आंदोलन के लंबे दौर से बाद तक मीडिया देश में जागरूकता के एक बड़े स्रोत और उपकरण के तौर पर काम करता रहा है। श्रेय और उपलब्धि से यशस्वी होने का गौरव अगर पत्रकारिता जगत महज कुछ बाजारू तकाजों के आगे खोता है तो यह अविवेक आगे किसी बड़े और खतरनाक प्रवृति की भी शक्ल ले सकता है। 

बुधवार, 14 सितंबर 2016

तेरी तो हर बात ग़ज़ल ...डा श्याम गुप्त ...



तेरी तो हर बात ग़ज़ल                        

तेरे दिन और रात ग़ज़ल,
तेरी तो हर बात ग़ज़ल |

प्रेम-प्रीति  की रीति ग़ज़ल,
मुलाक़ात की बात ग़ज़ल |

मेरे यदि नग्मात ग़ज़ल,
तेरी हर आवाज़ ग़ज़ल |

तेरे दर का फूल ग़ज़ल,
पात पात हर पात ग़ज़ल |

हमें भुलादो बने ग़ज़ल,
यादों की बरात ग़ज़ल |

तू हंसदे होजाय  ग़ज़ल,
अश्क अश्क हर अश्क ग़ज़ल |

तेरी शह की बात ग़ज़ल,
मुझको तेरी मात ग़ज़ल |

तू हारे तो क़यामत हो,
तेरी जीत की बात ग़ज़ल |

हंस देख कर शरमाये,
चाल तेरी क्या बात ग़ज़ल |

मेरी बात पे मुस्काना,
तेरे ये ज़ज्बात ग़ज़ल |

इठलाकर लट खुल जाना ,
तेरा  हर अंदाज़ ग़ज़ल |

तेरी ग़ज़लों पर मरते ,
कैसी सुन्दर घात ग़ज़ल |

श्याम' सुहानी ग़ज़लों पर ,
तुझको देती दाद ग़ज़ल ||