रविवार, 13 मई 2012

मेरी बहन बहन ...तेरी बहन प्रेमिका !!!


मेरी बहन बहन ...तेरी बहन प्रेमिका !!!
[google se sabhar ]

लड़का लड़की ने मिलकर सोचा 
''प्रेम ही सब कुछ  है  ''
हम दोनों  एक  दूजे  के  
बिना   मर   जायेंगे  !
माता  -पिता बहन-भाई 
ये सब क्या खाक साथ निभायेंगें ?
वैसे भी हम अपनी भलाई जानते हैं 
इसीलिए मर्यादा ;नैतिकता;
पारिवारिक नियंत्रण को हम नहीं मानते हैं .
दोनों योजना बनाकर फरार हो गए ;
घरवालों ने मिन्नतें की 
तो लौट आने को तैयार हो गए ,
जिस  दिन दोनों का विवाह हुआ 
एक और हादसा हो गया ;
लड़की का भाई लड़के की बहन 
को लेकर रफूचक्कर हो गया .
जो लड़का खुद किसी और की 
बहन को लेकर भागा था 
आज  उसके सिर शैतान सवार हो गया ;
बोला बदचलन बहन को 
सबक सिखाऊंगा ;
मर्यादा लांघी है परिवार की 
इसका मज़ा चखाऊंगा ,
ढूँढकर  दोनों को ज्यों ही 
रिवाल्वर साले पर तानी 
साले ने भी जेब से पिस्टल निकाली 
बोला -ये बदला है मेरे परिवार की
इज्ज़त  से खेलने का ;
मैंने  भी तुम्हारी इज्ज़त 
मिटटी   में मिला डाली !!!!!


10 टिप्‍पणियां:

रविकर फैजाबादी ने कहा…

uF

आकाश सिंह ने कहा…

kya baat hai.... mere samajh se badle ki bhawna rakhte huye pyar karna gunah hai... isme pahle wala pyar tha dusra wala pyar ko sarmsar karne wala ghinona roop................................ yahan padharen -- www.akashsingh307.blogspot.in

Blog ki khabren ने कहा…

नैतिक मूल्य ज़रूरी हैं।

Rajesh Kumari ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार १५ /५/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी |

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

बदले की भावना ही गलत है..

Reena Maurya ने कहा…

ha badale ki bhavana galat hai
par apne likha mast hai...
ati uttam prastuti:-)

Sudheer Maurya 'Sudheer' ने कहा…

bhut accha likha he, shikha ji.
ye sahi he, pr badle ki bhawna galat he

Dr. sandhya tiwari ने कहा…

बहुत खूब लिखा आपने----------

शालिनी कौशिक ने कहा…

sachachai bayan karti bahut sundar prastuti.badhai.

jyotisareen ने कहा…

very strange,only girls are standing for family honor.In ancient times also women paid the price ,atrocities were committed on them in the name of family honor------nothing has changed