मंगलवार, 14 मई 2013

भारतीय नारी ब्लॉग प्रतियोगिता -२ ,प्रविष्टि -४]सुश्री शालिनी कौशिक [ एडवोकेट ]



जीवन में किस नारी ने आपको सर्वाधित प्रभावित किया है इसका कोई मुश्किल जवाब  नहीं है ,''माँ''इससे ऊपर इस पायदान पर कोई हो ही नहीं सकता .वैसे भी  माँ को भगवान ने अपना रूप दिया है और संतान के लिए प्रथम प्रेरणा के रूप में इस धरती पर उतारा है किन्तु मेरे जीवन में मैं अपनी माँ के बाद यह स्थान अपनी छोटी बहन ''डॉ.शिखा कौशिक ''को दूँगी
व्यवस्थापक
डॉ.शिखा कौशिक
       जो मेरी नज़रों में बहुत शर्मीली ,संकोची व् भोली बालिका की श्रेणी में रही ,नहीं सोच सकती थी मैं कि घर पर आने वाले किसी भी मेहमान या बाहरी व्यक्ति को देख छिप जाने वाली ये लड़की इतनी मजबूत होगी कि कोई भी प्रलोभन उसे उसके दृढ इरादों से डिगा नहीं पायेगा ,,नहीं सोचती थी कि समस्त प्रतियोगिताओं में भाग लेने की समस्त योग्यता रखते हुए भी कॉलेज प्रशासन के पक्षपात भरे रवैये को देखकर वह स्वयं को ऐसे उन सबसे अलग कर लेगी कि अपने आलोचकों से अपनी [मिथ्या] आलोचना का ,अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिए उसे हराने का एकमात्र हथियार भी छीन उनमे खलबली मचा सकती है , शोध में आ रही कठिनाइयों को इतनी सहजता से झेलकर विपरीत परिस्थितियों का मुकाबला कर अपने दम पर पी.एच-डी.डिग्री हासिल करने वाली मेरी छोटी बहन मेरे जीवन के लिए मात्र एक आदर्श ही नहीं उससे भी बढ़कर है कि उसे देखकर मन यही कहता है कि ''भगवान् अगर अगला जन्म भी मुझे इन्सान का मिले तो मेरी बहन का साथ मुझे अवश्य देना .''
          शालिनी कौशिक
                    [एडवोकेट]

7 टिप्‍पणियां:

Shanti Purohit ने कहा…

शालिनी कौशिक जी के बारे मे आपसे इतना जान कर बहुत अच्छा लग रहा है|

Ashok Khachar ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

shanti ji -this post has been posted by me .shalin ji thanks a lot

शालिनी कौशिक ने कहा…

shanti jiv ashok ji ye maine apni chhoti bahan shikha ji ke bare me likha hai aap dhyan den .

Ashok Khachar ने कहा…

srry meri bhul thi
aapne bhot umda jankari di muje
or nari ka har rup bhagvan ka aabsh hi hai chahe ma ho bahen ho ......

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

बढ़िया भाव.... आपकी उम्मीदें जरुर पूरी होंगी...

Shanti Purohit ने कहा…

माफ़ करना शालिनी जी,
शिखा जी को मैंने आपकी बड़ी बहन समझ लिया था शिखा जी के बारे मे आपके अतिरिक्त हमे कौन बताता कि शिखा जी इतनी टेलेंटेड है जान कर गर्व हो रहा है |