शुक्रवार, 3 मई 2013

शीघ्र प्रकाश्य ब्रजभाषा काव्य संग्रह ..." ब्रज बांसुरी" की रचनाएँ ...डा श्याम गुप्त ...


   शीघ्र प्रकाश्य ब्रजभाषा काव्य संग्रह ..." ब्रज बांसुरी" की रचनाएँ ........

                        
                   मेरे शीघ्र प्रकाश्य  ब्रजभाषा काव्य संग्रह ..." ब्रज बांसुरी " ...की ब्रजभाषा में रचनाएँ..  गीत, ग़ज़ल, पद, दोहे, घनाक्षरी, सवैया, श्याम -सवैया, पंचक सवैया, छप्पय, कुण्डलियाँ, अगीत, नव गीत आदि  मेरे अन्य ब्लॉग .." हिन्दी हिन्दू हिंदुस्तान " ( http://hindihindoohindustaan.blogspot.com ) पर क्रमिक रूप में प्रकाशित की जायंगी ... ....
          कृति--- ब्रज बांसुरी ( ब्रज भाषा में विभिन्न काव्य-विधाओं की रचनाओं का संग्रह )
         रचयिता ---डा श्याम गुप्त 
                     --  श्रीमती सुषमा गुप्ता
                                                     भाव मंजरी ( अनुक्रमणिका)
अनुक्रमणिका
यहाँ प्रस्तुत है एक गीत ......नव बसंत आये .....

सखी री !, नव बसंत आये |"
जन-जन में ,
जन जन, मन मन में ,
जौवनु जौवनु छाये |....................सखी री ....||

पुलकि पुलकि सब अंग सखी
री ,
हियरा उठे उमंग |
आये ऋतुपति पुहुप बान ले ,
आये रति-पति काम बान ले,
मनमथ छायो अंग |
होय कुसुमसर घायल जियरा
अँग अंग रस  भरि  लाये |............. सखी री ....||

तन मन में बिजुरी की थिरकन
बाजे ताल मृदंग ,
अंचरा खोले रे भेद जिया के ,
जौबन उठे तरंग |
गलियन गलियन  झांझर बाजे ,
अंग अंग हरसाए |
काम -शास्त्र का पाठ पढ़ाने
ऋषि अनंग आये |

सखी री नव-बसंत आये ....||

----आगे अन्य रचनाएँ -मेरे ब्लॉग हिन्दी हिन्दू हिंदुस्तान  http://hindihindoohindustaan.blogspot.com) पर पढ़ें ...


 

2 टिप्‍पणियां:

संगीता पुरी ने कहा…

सुंदर रचना ..

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद संगीता जी......