सोमवार, 24 अक्तूबर 2011

दीप खुशियों के जलें & Let the lamps light ......डा श्याम गुप्त ...

दीप खुशियों के जलें ऐसे |
पुष्प दामन में खिलें जैसे |

खूब रोशनी हो जीवन में ,
सफलताएं सब मिलें जैसे |

आशा व उत्साह से पूरित ,
जीवन राह में चलें जैसे |

उमंगें  व उल्लास के पौधे,
उर्वरा भूमि में फलें जैसे |

मुस्कुराइए जला कर दिए,
सामने हम खड़े हों जैसे  |

खुश हो लेना कि तरन्नुम में ,
श्याम की गज़लें सुनलें जैसे ||






















Let the lamps light ,
Life comes to be bright .
Let the candles of hope,
Happiness & harmony ignite.

Think of me my dear,
When you light a light.
Think of me my dear,
When you pray in the night.

The darkness of your heart,
The loneliness of the dark.
In the wilderness of thoughts,
Let  the  hope  spark.

Here comes the dawn of hope,
  To do away this night.
 Let the lamps light,
 Life comes to be bright.

                                                                                                               
                                                                                                              

13 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

बहुत बहुत आभार ||
खूबसूरत भाव ||

Atul Shrivastava ने कहा…

सुंदर प्रस्‍तुति।
आपको और आपके परिवार को दीप पर्व की शुभकामनाएं....

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत ही सुन्दर... शुभ दिवाली...

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद ---सभी को दीप-पर्व की शुभकामनाएं ...

babanpandey ने कहा…

दीपों के पर्व की बधाई

वन्दना ने कहा…

दीपावली पर्व पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

सागर ने कहा…

bhaut hi khubsurat...

BrijmohanShrivastava ने कहा…

दीपावली केशुभअवसर पर मेरी ओर से भी , कृपया , शुभकामनायें स्वीकार करें

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद बृज मोहन जी,सागर, वन्दना जी,पांडे जी -
ज्योति-पर्व सभी के जीवन में सुख, समृद्धि लाए व आशा की रश्मियाँ बिखेरे---- शुभकामनाएं ...

ajit gupta ने कहा…

सुन्‍दर प्रस्‍तुति शुभकामनाएं।

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद , अजित जी....आभार ...

virendra ने कहा…

ATI SUNDAR PRASTUTIYAAN

BADHAAYEE SHYAAM JI

DEEPOTSAV MANGALMAY HO

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

आभार..वीरेंद्र जी...