बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

क्या पुरुष इसी तरह देंगे साथ महिलाओं को सशक्त करने में ?

क्या पुरुष इसी तरह देंगे साथ महिलाओं को सशक्त करने में ? अच्छे ओहदों पर विराजमान पुरुष जब महिलाओं के साथ ऐसा कुत्सित आचरण करेंगे तब अन्य सामान्य पुरुषों से क्या उम्मीद की जा सकती है ?पढ़िए ये दो खबरे -


१-भोपाल।। मध्य प्रदेश के श्योपुर जिले के कलेक्टर ज्ञानेश्वर बी. पाटिल एक बार फिर मुसीबत में फंस गए हैं। इस बार उन पर पर महिला बाल विकास अधिकारी उपासना राय ने देर रात को फोन करने और प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। इस मामले में चंबल संभाग के कमिश्नर अशोक कुमार शिवहरे ने पाटिल से जवाब मांगा है।


२- भोपाल।। छिंदवाड़ा जिले के सीएमओ (चीफ मेडिकल ऑफिसर) डॉ. एस.आर. चौहान ने डीएम पवन शर्मा पर आरोप लगाया है कि वह हर रात उनसे लड़कियां भेजने की मांग करते हैं। उन्होंने डीएम पर गाली देने और रिश्वत मांगने का आरोप भी लगाया है। 
[दोनों ख़बरें नवभारत टाइम्स से साभार ]


                                                ऐसे पुरुष अधिकारीयों के खिलाफ  जल्द से जल्द कड़ी कार्यवाही होनी चाहिए जिससे भारतीय समाज में सशक्त होती नारी के कदमों को फिर से चौखट के अन्दर न धकेल दिया जाये व् अन्य पुरुष अधिकारियों की छवि भी धूमिल न हो .
                            शिखा कौशिक 



3 टिप्‍पणियां:

bhuneshwari malot ने कहा…

true

sangita ने कहा…

sarthak pryas hon to sab shi hosakta hae.jaroori hae ki is tarah ke virus ka samay par ilaaj kiya jaye .aabhar.

आशा जोगळेकर ने कहा…

ऐसे घृणित कारयों की निंदा होरही है और कारवाई ह रही है यह एक सकारात्मक कदम है ।