शनिवार, 6 अगस्त 2011

गेस्ट रूम में रही वो, सालों परदा तान ||

सींचे  अपने  रक्त  से, हड्डी  देय  गलाय |
धन्य आत्मा हो गई, प्रथम-दर्श माँ पाय ||

राखै   भीतर   कोख  के,  अंकुर पौधा होय |
अमिय-दुग्ध से पोसती, पुतली सा संजोय ||

पाली-पोसी प्राण सा,  माता सदा सहाय |
दो किलो का बचपना, सत्तर का हो जiय |

सत्तर का होकर करे, पत्थर-दिल सा काम |
दुर्बल  वृद्धा  का  करे,  जीना   वही   हराम ||

*प्रसवदता का दर्द वो,  हफ़्तों में हो सोझ  |  *प्रसव के समय होने वाली पीड़ा
प्राणान्तक लेकिन हुआ, मन-पीड़ा का बोझ  ||

अम्मा थी तब मलकिनी, आज हुई अनजान |
गेस्ट रूम में रही वो,   सालों  परदा  तान ||

बहकावे में आ गया, हुआ कलेजा चूर |
किया किसी को  पास में, माता होती दूर |



9 टिप्‍पणियां:

अशोक कुमार शुक्ला ने कहा…

बहकावे म आ गया, हुआ कलेजा चूर |
beautiful lines.
Badhai

Rajesh Kumari ने कहा…

pashchatap se nikle shabd achcha laga padh kar.bahut achchi kavita likhi hai.

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

Nice .

शिखा कौशिक ने कहा…

आपकी पोस्ट पर मेरा एक शेर सटीक बैठता है -
''उम्रदराज माँ की अहमियत कम नहीं होती
ये उनसे पूछकर देखो की जिनकी माँ नहीं होती ''
आपकी पोस्ट ने उन सभी संतानों को आईना दिखा दिया है जो अपनी माँ को बुढ़ापे में नारकीय जीवन जीने के लिये विवश कर देते हैं .

मनोज कुमार ने कहा…

बेहतरीन दोहे। सार्थक, विचारोत्तेजक।

शालिनी कौशिक ने कहा…

वर्तमान शहरों में माँ ki sthiti darshati सार्थक प्रस्तुति.

Vishu Singh Disodia ने कहा…

bhut acchi bat khai apne mujhe bhut pasnd aayi harish g aise hi ap likhte jaye aur tarki karte jaye yahi dua hai meri rab se

रविकर ने कहा…

बहुत-बहुत आभार ||

S.M.HABIB ने कहा…

वाह! बहुत सुन्दर सच्चे दोहे...
सादर...