गुरुवार, 28 जुलाई 2011

''अमर सुहागन''- .शत-शत नमन इन वीर नारियों को -

यूँ तो भारतीय नारी का हर स्वरुप   प्रेरणादायी है पर एक शहीद की पत्नी के रूप  में   स्त्री  कितना  बड़ा  त्याग करती है सोचकर भी ह्रदय  गदगद हो जाता है और आँखें नम .इन्ही भावों को संजोये है यह रचना  .शत-शत नमन इन  वीर नारियों को -


हे!  शहीद की प्राणप्रिया
तू ऐसे शोक क्यूँ करती है?
तेरे प्रिय के बलिदानों से
हर दुल्हन मांग को भरती है.
******************************************
श्रृंगार नहीं तू कर सकती;
नहीं मेहदी हाथ में रच सकती;
चूड़ी -बिछुआ सब छूट गए;
कजरा-गजरा भी रूठ गए;
ऐसे भावों को मन में भर
क्यों हरदम आँहे भरती है;
तेरे प्रिय के बलिदानों से
हर दीपक में ज्योति जलती है.
*********************************************
सब सुहाग की रक्षा हित
जब करवा-चोथ -व्रत करती हैं
ये देख के तेरी आँखों से
आंसू की धारा बहती है;
यूँ आँखों से आंसू न बहा;हर दिल की
धड़कन कहती है--------
जिसका प्रिय हुआ शहीद यहाँ
वो ''अमर सुहागन'' रहती है.

9 टिप्‍पणियां:

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

बहुत खूब ।

एस.एम.मासूम ने कहा…

ati sunder. aman ka paigham pe mahilaon se jude mudde ko padhein.

Rajesh Kumari ने कहा…

yeh rachna to dil ko choo gai.bahut achchi.

Manish Kr. Khedawat ने कहा…

bahut sunder !!

veerubhai ने कहा…

एक ही समय में भाव विह्वल ,गौरवान्वित करने वाली रचना .अप्रतिम शीर्षक "अमर सुहागन ".

ईं.प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

दिल को छु लेने वाली रचना । बहुत सुन्दर ।

vandana ने कहा…

श्रृंगार नहीं तू कर सकती;
नहीं मेहदी हाथ में रच सकती;
चूड़ी -बिछुआ सब छूट गए;
कजरा-गजरा भी रूठ गए;
ऐसे भावों को मन में भर
क्यों हरदम आँहे भरती है;
तेरे प्रिय के बलिदानों से
हर दीपक में ज्योति जलती है.
बहुत ही सुन्दर भाव
और शहीद वीरांगनाओं को नमन

शिखा कौशिक ने कहा…

bahut bahut aabhar utsahvardhan hetu .

तेजवानी गिरधर ने कहा…

अति सुंदर, शिखा जी आपको प्रणाम