सोमवार, 8 अप्रैल 2013

सुन्दरता औरत का जन्मसिद्ध अधिकार है

सुन्दरता औरत का जन्मसिद्ध अधिकार है. मोती भस्म इसे पाने में  बहुत सहायक है. 


  1. फायदे-
  2. कैल्शियम आँखों और त्वचा को चमकदार  भी बनाता है। खाल नर्म, मुलायम और मोती की तरह आबदार हो जाती है। औरतों की आम बीमारी ल्यूकोरिया ख़त्म हो जाती है। जीवन में जोश और उमंग पैदा हो जाता है। जिन लोगों के जीवन में समस्याओं से घबराकर बार बार यह विचार आता हो कि इस जीने से तो मरना भला। वे इस नुस्ख़े को खाकर बुरे विचार से पीछा छुड़ा सकते हैं। ऐसा विचार तब आता है जबकि मनुष्य तनाव को झेलने की अंतिम सीमा पर पहुंच जाता है। इस नुस्ख़े का सेवन करने वाले का तनाव भी कम होता है और तनाव झेलने की ताक़त भी बढ़ती है। इससे हड्डी मज़बूत होती है, याददाश्त बढ़ती है।
    यह नुस्ख़ा वैवाहिक जीवन को ख़ुशहाल बनाता है। औरत का हुस्न बहुत बढ़ जाता है। कमज़ोरी और निराशा को दूर करता है। इस नुस्ख़े में शामिल जिंक नई कोशिकाओं का निर्माण करता है। नई कोशिकाओं निर्माण से बुढ़ापा आने की रफ़्तार धीमी पड़ जाती है।
    इस नुस्ख़े का इस्तेमाल घर से दूर किसी पहाड़ी पर जाकर किया जाए तो पूरा असर दिखाएगा और जल्दी दिखाएगा। अपने तजर्बे की बुनियाद पर हम इस नुस्ख़े को 4 से 6 माह तक इस्तेमाल करने की सलाह देंगे।
  3. परहेज़-
  4. 1. आग पर पके हुए खाने का पूरी तरह परहेज़ रखें। डायबिटीज़ का ध्यान रखते हुए आप फल और सब्ज़ियां कच्ची खाएं।
    2. ताज़ा रिसर्च कहती है कि डायबिटीज़ के मरीज़ खजूर, गाजर और चुक़न्दर भी खा सकते हैं। खजूर पेड़ पर पका हुआ होना चाहिए। कुछ लोग गुड़ की चाशनी में मीठा कर देते हैं। यह सस्ती खजूर गुड़ की वजह से नुक्सान देगी।
    विशेष-
    1. थोड़ा थोड़ा करके 4 लीटर पानी पिएं।
    2. पालक का जूस और खीरा खाएं। ये बॉडी की अल्कलाईन नेचर को वापस लाने में बहुत अच्छी मदद करते हैं।
    3. रात में सोते वक्त गर्म पानी के साथ त्रिफला चूर्ण या पंच सकार चूर्ण (बैद्यनाथ) ज़रूर लें ताकि पेट रोज़ाना अच्छी तरह साफ़ होता रहे।
    4- गोखरू, मूसली, अजवायन, कदंब का मूल, सौंठ आदि दवाओं को बराबर मात्रा में लेकर कूट पीस कर रख लें और लगभग 7 ग्राम दवा में कैल्शियम सप्लीमेंट (भस्म आदि) 100 मिग्रा. मिलकर सेवन करें. 5- यह नुस्खा प्राचीन भारतीय शॉड को सामने लिखा गया है. इसका सेवन अपनी मर्ज़ी से न करें बल्कि किसी आयुर्वेदिक या यूनानी चिकित्सक की निगरानी में ही करें.

5 टिप्‍पणियां:

Dr. Ayaz Ahmad ने कहा…

Nice post.

shashi purwar ने कहा…

acchi post .badhai

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

shukriya.

Please see:
http://blogkikhabren.blogspot.in/2013/04/blog-post_9.html

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

पुरुष का क्यों नहीं ?

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

यह विज्ञापन है....?????