शुक्रवार, 19 अप्रैल 2013

! रामनवमी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

! रामनवमी पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !
किलकारी मारें बजाकर खन खन कंगना ,
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !


मैय्या कौशल्या उर आनंद लहरे उमड़े ,
पैय्या चले तो पकड़ने को वे दौड़े ,
लेती बलैय्या आँचल में हैं छिपती ललना !
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !


चारों भैय्या मिलकर माखन चुराते हैं ,
बड़े हैं भाई राम सबको खिलाते हैं ,
माटी के बर्तन फोड़ें आये पकड़ में ना !
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !


राम के मुख की शोभा बरनि न जाये है ,
सुन्दरता देख उन्हें खुद पर लजाये है ,
शोभा की खान राम किसी से क्या तुलना !
नन्हें से राम लल्ला खेलें  दशरथ के अंगना !

शिखा कौशिक 'नूतन '

3 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

सुन्दर आध्यात्मिक भावात्मक अभिव्यक्ति ह्रदय को छू गयी आभार रामनवमी की बहुत बहुत शुभकामनायें औरत की नज़र में हर मर्द है बेकार . .महिला ब्लोगर्स के लिए एक नयी सौगात आज ही जुड़ें WOMAN ABOUT MANजाने संविधान में कैसे है संपत्ति का अधिकार-2

Dr. Sarika Mukesh ने कहा…

बहुत सुंदर...रामनवमी की आपको भी हार्दिक शुभकामनाएँ!!

गिरिजा कुलश्रेष्ठ ने कहा…

सन्ध्या जी आपको रामनवमीं की हार्दिक शुभकामनाएं । मेरे ब्लाग को पढने का शुक्रिया