शुक्रवार, 14 सितंबर 2012

                               कितना सहेंगी हमारी बेटियां 

बिहार के सीतामढ़ी की कंचन बाला  जब ऊपर भगवान  के पास पहुंची होगी तो जरुर पूछी होगी कि मुझे लड़की क्यों बनाया ? काश ! मुझे भी लड़का बनया होता , मैं भी जी पाती शान से और पूरी कर पाती  अपने सपने , जो मैंने देखे थे । जी पाती आजादी से बंधनमुक्त आजाद पंछी की भांति । कोई मनचला हमें नहीं छेड़ पाता और न ही मुझे मानसिक प्रताड़ना प्रताड़ना मिलती । मेरी बात किसी ने नहीं सुनी और वो मुझे परेशान  करता रहा , अंत में मुझे मौत को गले लगाना पड़ा । जब मैं ही नहीं रहूंगी तो वो किसे तंग करेगा ?
                   यही सवाल छोड़ गयी है कंचनबाला समाज के सामने । उसकी बेबसी ने उसे आत्महत्या करने को मजबूर कर दिया । कोई रास्ता नहीं बचा था उसके पास इसीलिए उसने अपने सुसाइड नोट में  ये लिखा । इसमें उसकी जैसी हजारों लड़कियों के साथ हो रहे अत्याचार की झलक मिलती है और उनकी बेबसी की झलक मिलती है ।
                 कंचन बाला भी उन्ही हजारों लड़कियों की तरह छेड़खानी की शिकार बनी और जब-जब उसने विरोध किया सजा उसे ही भुगतनी पड़ी । घर-परिवार के लोग उसे ही दोषी ठहराते रहे और वो मनचला उसे लगातार अपना शिकार बनाता  रहा । जितना उससे बन पड़ा उसने उसका विरोध किया । उसका भाई जब उसका रक्षक बना तो उसे उन बदमाशों ने काफी पीटा । जब रिपोर्ट लिखाने  थाने गयी तो पुलिस ने कोई सहायता नहीं की बल्कि उससे समझौता करने की सीख  दी । पुलिस यदि समय पर उसकी सहायता करती तो वो मौत को गले नहीं लगाती पर पुलिस ने सीख  दी कि इससे लड़की की बदनामी होगी , फिर तो वो बदमाश और भी आगे बढ़ गया । अब कंचन बाला हताश  हो चुकी थी । उसके पास कोई रास्ता नहीं बचा था । पढाई छूट  गयी । इस कच्ची उम्र में उसने समाज की गन्दगी को नजदीक से देखा । कितना मानसिक तनाव और बेबसी में होगी उस रात जब उसने आत्महत्या का निर्णय लिया होगा । अपने सुसाइड नोट में उसने पुलिस को जिम्मेदार ठहराया और प्रार्थना की कि उस बदमाश को सजा दी जाय ।
                   इस तरह की घटना के लिए कौन जिम्मेदार माना जायेगा ? अगर सही समय पर उसकी मदद की गयी होती वो आज हमारे बीच हंसती - खेलती होती ।

7 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

हिन्दी पखवाड़े की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
--
बहुत सुन्दर प्रविष्टी!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (16-09-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

sach badi vikat isthiti ho gai hai ...

Ratan singh shekhawat ने कहा…

ऐसी दुखद घटनाएँ समाज में बढती ही जा रही है जो चिंताजनक है |
Gyan Darpan

Rajesh Kumari ने कहा…

हमारे देश का दुर्भाग्य है यह जहां पुरातन ग्रंथों में हर धर्म में नारी को पूजने की बात होती है आज वो किन विडम्बनाओं को झेल रही है ह्रदय द्रवित होता है यह सब देख सुनकर

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

सही कहा राजकुमारी जी...हम पुरातन को भूल चले हैं इसीलिये यह दुर्दशा है इस देश की .....यही दुर्भाग्य है हमारे देश का...

शिखा कौशिक 'नूतन ' ने कहा…

bahut dukhad hai ki aaj bhi hamare samaj me aisi ghatnayen ghat rahi hain .

UMA SHANKER MISHRA ने कहा…

आदरणीया
बेटियों पर हो रहे जुल्म को समाज के सामने रख कर एक प्रश्न किया है ...?
इस घटना से व्यथित हूँ
काश हम कुछ कर पाते