गुरुवार, 13 सितंबर 2012

नादानी ये माँ-बाप की बच्चे हैं भुगतते ,

नादानी ये माँ-बाप की बच्चे हैं भुगतते ,
flying_bird.gif image by lukysubiantoro  Geetika Sharma suicide case: Delhi police may seek extension of Kanda’s remand bird.gif image by yolande-bucket-bucket

शबनम का क़तरा थी मासूम अबलखा ,
वहशी दरिन्दे के वो चंगुल में फंस गयी .
चाह थी मन में छू लूं आकाश मैं उड़कर ,
कट गए पर पिंजरे में उलझकर रह गयी .
   
   थी अज़ीज़ सभी को घर की थी लाड़ली ,
अब्ज़ा की तरह पाला था माँ-बाप ने मिलकर .
आई थी आंधी समझ लिया तन-परवर उन्होंने ,
तहक़ीक में तबाह्कुन वो निकल गयी .

 महफूज़ समझते थे वे अजीज़ी का फ़रदा   ,
तवज्जह नहीं देते थे तजवीज़ बड़ों की .
जो कह गयी जा-ब-जा हमसे ये तवातुर ,
हर हवा साँस लेने के काबिल नहीं होती .

जिन हाथों में खेली थी वो अफुल्ल तन्वी ,
जिन आँखों ने देखी थी अक्स-ए-अबादानी .
खाली पड़े हैं हाथ अब बेजान से होकर ,
आँखें किन्ही अंजान अंधेरों में खो गयी .

नादानी ये माँ-बाप की बच्चे हैं भुगतते ,
बाज़ार-ए-जहाँ में यूँ करिश्मे नहीं होते .
न होती उन्हें तुन्द्ही छूने की फलक को ,
औलाद की कुर्बानियां न यूँ दी गयी होती .

शब्दार्थ -अबलखा-एक चिड़िया ,अज़ीज़ -प्रिय ,अब्ज़ा -लक्ष्मी सीपी मोती ,तन परवर -तन पोषक ,
           तहकीक -असलियत ,तबाह्कुन -बर्बाद करने वाला ,अजीज़ी -प्यारी बेटी ,फ़रदा -आने वाला दिन ,
            जा-ब-जा -जगह जगह ,तवातुर -निरंतर ,बाज़ार-ए-जहाँ -दुनिया का बाज़ार ,अक्स-ए-अबादानी-आबाद होने का चित्र ,
             तन्वी-कोमल अंगो वाली ,अफुल्ल-अविकसित ,तुन्द्ही -जल्दी 
                                                                   शालिनी कौशिक  

6 टिप्‍पणियां:

शिखा कौशिक 'नूतन ' ने कहा…

bahut samvedansheel rachna .aabhar

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

bahut hi marmik abhiwayakti .....

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति....निश्चय ही अति-ऊंचा उड़ने की तमन्ना ..प्रायः खतरनाक होती है...हमें अपनी सक्षमता के अनुसार ही व्यवहार व इच्छाएं रखनी चाहिए ...
-- अति सर्वत्र वर्ज्ययेत ....

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

हाँ, बहुत सुन्दर उर्दू है....

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

संवेदनशील और सार्थक प्रस्तुति |
मेरी पोस्ट में आपका स्वागत है |
जमाना हर कदम पे लेने इम्तिहान बैठा है

Madan Saxena ने कहा…

बहुत सराहनीय प्रस्तुति.