रविवार, 23 सितंबर 2012

शाबाश इसे कहते हैं नारी सशक्तिकरण !क्यूं सही कहा ना ?

शाबाश इसे कहते  हैं नारी सशक्तिकरण !क्यूं सही कहा ना ?

पति को छोड़ना मंजूर, गुटखा नहीं: मियां-बीवी ने दी तलाक की अर्जी

आपका-अख्तर खान "अकेला"परपत्रकार-अख्तर खान "अकेला"- 4 घंटे पहले
[image: पति को छोड़ना मंजूर, गुटखा नहीं: मियां-बीवी ने दी तलाक की अर्जी] *भिवानी.* पति, पत्नी और 'वो' के चलते कई परिवार टूटे होंगे लेकिन यहां भिवानी में आए एक मामले में मियां बीवी के बीच 'गुटखा' आ गया। बात अब तलाक तक पहुंच गई है। गुटखे की लत छोडऩे की बजाय पत्नी अपने पति को ही छोडऩा चाहती है।वाकया कुछ इस तरह है। जिले की एक महिला ने एसपी कार्यालय में शिकायत देते हुए कहा कि उसकी शादी दिल्ली क्षेत्र में हुई है। मगर, अब पति व ससुराल वाले उसे दहेज के लिए मारते-पीटते हैं। वहां से इस मामले को जिला महिला सेल में भेज दिया गया। सेल में दोनों पक्षों को सुनवाई के लिए बुलाया गया, तो महिला...अधिक »
 
           प्रस्तुति -शालिनी कौशिक

4 टिप्‍पणियां:

VIJAY KUMAR VERMA ने कहा…

wah...

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

अति-सशक्तीकरण ---अति सर्वत्र वर्ज्ययेत ....कम कोई नहीं ...

India Darpan ने कहा…

बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
बधाई

इंडिया दर्पण
पर भी पधारेँ।

Prem Farukhabadi ने कहा…

kya vyang hai!! Waah!