गुरुवार, 8 मार्च 2012

इन्द्रधनुष.....अंक चार का शेष -----स्त्री-पुरुष विमर्श पर..... डा श्याम गुप्त का उपन्यास.....

                                     

3 टिप्‍पणियां:

शिखा कौशिक ने कहा…

SARTHAK PRASTUT .AABHAR

रविकर ने कहा…

सुन्दर ।।

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद रविकर व शिखा जी...