गुरुवार, 5 जनवरी 2012

यादों के झरोखे से---कविता ...डा श्याम गुप्त....

यादों के झरोखे से,
जब तुम मुस्कुराती हो ;
मन में इक नयी उमंग -नयी-
कान्ति बन कर आती हो |

उस साल तुम अपनी,
नानी के यहाँ आई थीं ,
सारे कैम्पस  में, एक -
नयी रोशनी सी लाई थीं |

वो घना  सा  रूप-
वो घनी केशराशि ;
हर बात में घने-घने -
कहने की अभिलाषी |

उसके बाग़ की बग़ीचों की,
फूलपत्ती और  नगीनों केी।
 हर चीज़ थी घनेरी-घनेरी,
जैसे आदत हो हसीनों केी ।

गर्मी  की  छुट्टी  में,
 मैं आऊंगी फ़िर ।
चलते चलते तुमने,
कहा था होके अधीर ।

अब न वो गर्मी आती है ,
न वैसी गर्मी  की छुट्टी ।
शायद करली है तुमने,
मेरे  से  पूरी कुट्टी ॥

9 टिप्‍पणियां:

Pragya Sharma ने कहा…

Nice .

Rajesh Kumari ने कहा…

bahut komal pyaari se rachna.

Mamta Bajpai ने कहा…

श्रंगार रस का अच्छा चित्रण

NISHA MAHARANA ने कहा…

अब न वो गर्मी आती है ,
न वैसी गर्मी की छुट्टी ।very nice.

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद.....प्रग्या, राजेश,ममता व निशा जी....आभार...

ASHA BISHT ने कहा…

sundar panktiya..

कविता रावत ने कहा…

गुप्त जी की सुन्दर रचना प्रस्तुति हेतु आभार!

कौशल किशोर ने कहा…

बहुत बढ़िया लिखा
बधाई.

मेरे ब्लॉग को पढने और जुड़ने के लिए क्लीक करें इस लिंक पर.
http://dilkikashmakash.blogspot.com/

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवा आशाजी, किशोर जी एवं कविता जी.....