मंगलवार, 6 सितंबर 2011

लक्ष्मण रेखा Posted by संगीता स्वरुप ( गीत ) : मेरी टिप्पणी

File:Ravi Varma-Ravana Sita Jathayu.jpgलक्ष्मण रेखा लांघती, लिए हथेली जान 
बीस निगाहें घूरती, खुद रावण पहचान 



खुद रावण पहचान, नहीं ये तृण से डरता
मर्यादा  को  भूल, हवस बस पूरी  करता 




संगीता की सीख, ठीक पहचानो रावण

खींचो खुदकी रेख, कहाँ ले खींचे लक्ष्मण

इसको  भी  क्लिक  कर  दें ---बेचारा 
मुलायम सी लक्ष्मण-रेखा लांघ बैठा  

अमर दोहे

5 टिप्‍पणियां:

वन्दना ने कहा…

बहुत सुन्दर दोहे बनाये और सही कहा।

smshindi By Sonu ने कहा…

बहुत ही बढ़िया

veerubhai ने कहा…

बेहतरीन दोहे !ऐसे ही थोड़ी न कहा गया है औरत के पास एक सिक्स्थ सेन्स होता है .काश भारतीय राजनीति के पास भी होता .

veerubhai ने कहा…

बेहतरीन दोहे !ऐसे ही थोड़ी न कहा गया है औरत के पास एक सिक्स्थ सेन्स होता है .काश भारतीय राजनीति के पास भी होता .संगीता जी और रविकर जी दोन को बधाई !

श्री श्री साढ़े सात हजार बाबा सांडनाथ !! ने कहा…

raam jaisaa mahaan raja apni bharya ko jangal me kaise bhej sakta hai ?? kyaa ye sidhant unke mahaourush ka laxan hai ? nahi sab kol kalpit baten hain! kuchh sachchi kuchh apne man se gadhi hui!! sargarbhit lekha hai aapka