रविवार, 29 सितंबर 2013

प्रभु दे मारक शक्ति, नारि क्यूँ सदा कराहे-रविकर

हे अबलाबल भगवती, त्रसित नारि-संसार। 
सृजन संग संहार बल, देकर कर उपकार।

देकर कर उपकार, निरंकुश दुष्ट हो रहे । 
करते अत्याचार, नोच लें श्वान बौरहे।

समझ भोग की वस्तु, लूट लें घर चौराहे । 
प्रभु दे मारक शक्ति, नारि क्यूँ सदा कराहे ॥

4 टिप्‍पणियां:

shikhakaushik06 ने कहा…

bilkul sahi .aabhar

shyam Gupta ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
shyam Gupta ने कहा…

सृजन संग संहार बल, सदा नारि के संग |
करें नहीं उपयोग पर,सुख-सेवित जब अंग |
सुख सेवित जब अंग,अन्य क्यों बनें सहायक|
अपनी करनी सदा स्वयं फल की परिचायक |
अपना स्वयं सहाय, बने रख दृढ़ता तन मन ,
अनुपम बल है नारि,हो विनाश या नवसृजन||

रविकर ने कहा…


आभार आदरणीया-

आभार आदरणीय-