बुधवार, 9 जनवरी 2013

शिशिर ...डा श्याम गुप्त ....

 








                    प्रेम -- किसी एक तुला द्वारा नहीं तौला जा सकता , किसी एक नियम द्वारा नियमित नहीं किया जासकता ; वह एक विहंगम भाव है | 
         --शिशिर में मन का एक विहंगम भाव-----
                      
                     
 
                  शिशिर
 मैंने ही  भूलें की होंगी , स्वीकृतपाती भेज रहा हूँ
तेरी याद पुरानी हे प्रिय! मन में अभी सहेज रहा हूँ ||

शुष्क पात जब एक टूटकर, गिरा सामने, यह सच पाया |
देखी अपनी जीवन छाया, मैं समझा तब पतझड़ आया ||

तेरे बासंती तन मन से, मैं क्यों इतना दूर होगया |
समझ न पाया क्यों तेरा मन, अहंकार में चूर होगया ||

तेरी नेक वफाओं को मैं, अब तक कहाँ भुला पाया हूँ |
तेरे पावन मन की बातें, मन से कहाँ मिटा पाया हूँ ||

तेरी बातें  सच का सपना,  मैं  भूलों की भंवर पड़ा था |
अपनेपन में मस्त रहा मैं,पुरुष अहं में जकड खडा था ||

सूखे हुए गुलाब रखे जो , पन्नों बीच, सहेज रहा हूँ |
मैंने ही भूलें की होंगी , स्वीकृति पाती भेज रहा हूँ ||

तुमने भी यदि रखे सहेजे,  कुछ सूखे गुलाव पुस्तक में |
तुमको जो कुछ सत्य सा लगे,मेरी इस स्वीकृति दस्तक में|

खत  रूपी इक शुष्क पात ही, आशा, क्षमा रूप मिल जाए |
अपने जीवन के पतझड़ में , शायद फिर बसंत मुस्काए ||

पाती पढ़ बेचैन होगये,झर झर झर निर्झर नैन होगये |
मैंने क्यों न पुकारा तुमको,क्यों मेरे सुख चैन खोगये ||

अहं भाव तो मुझ में ही था,शायद समय चक्र यह ही  था |
सोचा ही क्यों ऐसा हमने , कौन गलत था कौन सही था !

सही गलत अनुबंध शर्त सब, भला प्यार में कब होती  हैं |
मेरे गीत नहीं अब बनते,  आँखें झर झर झर रोती  हैं ||

क्षमा मुझे अब तुम ही करदो, स्वीकृति पाती भेज रही हूँ |
आशा रूपी नूतन किसलय, पत्र सजाकर भेज रही हूँ ||

                                                                        ----चित्र गूगल साभार ....
                         

7 टिप्‍पणियां:

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

bahut sundar bhavabhivyakti .hardik aabhar

डॉ. नूतन डिमरी गैरोला- नीति ने कहा…

बहुत सुन्दर भावनाएं.. सादर

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद शिखा जी एवं गेरोला जी.....

शालिनी कौशिक ने कहा…

बहुत सही बात कही है आपने .सार्थक अभिव्यक्ति मोहन -मो./संस्कार -सौदा / क्या एक कहे जा सकते हैं भागवत जी?

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद शालिनी जी.....

प्रवाह ने कहा…

बहुत ही सुंदर भाव स्वीकारोक्ति के आंसू और क्षमा के भाव से ही पवित्रता का भाव मुखरित होता ,आत्मविवेचन से ही अपनी गलतियों का भान होता है , प्राश्चित का यही सर्वोत्तम उपाय है ,अच्छी भावयुक्त कविताई के लिए साधुवाद

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद ---यही समय का प्रवाह है....