मंगलवार, 23 अक्तूबर 2012

सोने की लंका में ..... डा श्याम गुप्त

सोने की लंका में, सीता माँ बंदी है ,
रघुबर  के नाम की भी, सुअना पावंदी है |

लंका तो सोने की, सोना ही सोना है ,
सोना ही खाना-पीनी, सोन बिछौना है |
सोने के कपडे-गहने,सोने की बँगला-गाड़ी,
सोने सा मन रखने पर, सुअना पावंदी है ||   सोने की लंका में ....

सोने के मृग के पीछे क्या गए राम जी,
लक्ष्मण सी भक्ति पर भीशंका का घेरा है |
संस्कृति की सीता को, हर लिया रावण ने ,
लक्ष्मण की रेखा ऊपर, सोने की रेखा है ||

अपना  ही चीर हरण, द्रौपदि को भाया है ,
कृष्ण लाचार खड़े,  सोने की माया है |
वंशी के स्वर  में भी, सुर-लय त्रिभंगी है ,
रघुवर के नाम की भी रे नर ! पाबंदी है ||      ...सोने की लंका में ...

अब न विभीषण कोई, रावण का साथ छोड़े ,
अब तो भरत जी रहते, रघुपति से मुख मोडे |
कान्हा  उदास घूमे, साथी न संगी हैं ,
माखन से कौन रीझे, ग्वाले बहुधंधी हैं ||

सोने के महल-अटारी, सोने के कारोबारी,
सोने  के पिंजरे में  मानवता बंदी है |
हीरामन हर्षित चहके, सोने के दाना पानी ,
पाने की आशा में,  रसना आनंदी है  ||     ...सोने की लंका में...

कंस खूब फूले-फले, रावण हो ध्वंस्  कैसे,
रघुवर अकेले हैं लंका में पहुंचें कैसे |
नील और नल के छोड़े पत्थर न तरते अब ,
नाम की न महिमा रही सीताजी छूटें कैसे ||

अब तो माँ सीता तू ही, आशा कीज्योति बाकी ,
जब  जब हैं देव हारे, माँ तू ही तारती |
खप्पर-त्रिशूल लेके बन जा रन चंडी  है ,
भक्त माँ पुकारें , राम की भी रजामंदी है ||    --- सोने की लंका में ..||







6 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

विजयादशमी की शुभकामनाएं |
सादर --

Manu Tyagi ने कहा…

सुंदर रचना

शालिनी कौशिक ने कहा…

कलियुग का हाल श्याम गुप्त जी आपने बहुत ही भावपूर्ण शब्दों में अभिव्यक्त किया है .बधाई

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ
♥(¯*•๑۩۞۩~*~विजयदशमी (दशहरा) की हार्दिक शुभकामनाएँ!~*~۩۞۩๑•*¯)♥
ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬●ஜ

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद --शास्त्रीजी, रविकर मनु एवं शालिनी जी

Devdutta Prasoon ने कहा…

'सीता भारत की'जाली,'मनमानी की आग'|
'भारतीयता' में लगे, 'मैले मैले दाग' ||
'मैले मैले दाग','देश की गरिमा' उथली |
'फल' खा गये 'विदेश', रह गयी 'जूठी गुठली'||
'अजब विरोधाभास',समय 'उन्नति' में बीता |
रही उपेक्षित,फिर भी है 'सभ्यता की सीता' ||