शुक्रवार, 11 अप्रैल 2014

नारी (एक बेबसी)

जब नारी ने जन्म लिया था ! 
अभिशाप ने उसको घेरा था !!
अभी ना थी वो समझदार !
लोगो ने समझा मनुषहार !! 
उसकी मा थी लाचार ! 
लेकीन सब थे कटु वाचाल !! 
वह कली सी बढ्ने लगी ! 
सबको बोझ सी लगने लगी !! 
वह सबको समझ रही भगवान ! 
लेकीन सब थे हैवान !! 
वह बढना चाहती थी उन्नती के शिखर पर ! 
लेकीन सबने उसे गिराया जमी पर !! 
सबने कीया उसका ब्याह ! 
वह हो गयी काली स्याह !! 
ससुर ने मागा दहेग हजार ! 
न दे सके बेचकर घर-बार !! 
सास ने कीया अत्याचार ! 
वह मर गयी बिना खाये मार !! 
पती ने ना दीया उसे प्यार ! 
पर शिकायत बार-बार !! 
किसी ने ना दिखायी समझदारी ! 
यही है औरत कि बेबसी लाचारी !! 
ना मीली मन्जिल उसे बन गयी मुर्दा कन्काल ! 
सबने दिया अपमान उसे यही बन गया काल !! 
यही है नारी कि बेबसी यही है नारी की मन्जिल ! 
यही हिअ दुनीय कि रीत यही है मनुष्य का दिल !! 
मै दुआ करता हू खुदा से किसी को बेटी मत देना ! 
यदी बेटी देना तो इन्सान को हैवनीयत मत देना !! 

http://hindikavitamanch.blogspot.in/
http://rishabhpoem.blogspot.in/

9 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

bahut sahi likha hai aapne nari vyatha ko .very nice .

yashoda agrawal ने कहा…

आपकी लिखी रचना रविवार 13 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

ऋषभ शुक्ला ने कहा…

शुक्रिया आप सभी का, आप सभी से मेरा सविनय निवेदन है की आप सभी मेरे ब्लॉग पर आये और अपने विचार प्रकट करे.
http://hindikavitamanch.blogspot.in/
http://rishabhpoem.blogspot.in/

अभिषेक कुमार अभी ने कहा…

आपकी इस अभिव्यक्ति की चर्चा कल रविवार (13-04-2014) को ''जागरूक हैं, फिर इतना ज़ुल्म क्यों ?'' (चर्चा मंच-1581) पर भी होगी!
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर…

shikha kaushik ने कहा…

nari jeevan kee vyatha ka sateek prastutikaran .aabhar

Onkar ने कहा…

सही चित्रण

आशीष भाई ने कहा…

बहुत ही सुन्दर व सही , शिखा जी को धन्यवाद !
Information and solutions in Hindi ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )
new post-: साथी हाँथ बढ़ाना !

sadhana vaid ने कहा…

मार्मिक प्रस्तुति ! नारी के दु:सह्य जीवन का दारुण चित्रण ! मन विचलित हो गया !

ऋषभ शुक्ला ने कहा…

आप सभी का बहुत-बहुत आभार, शुक्रिया.