शनिवार, 15 मार्च 2014

बरसाने वाली छोरी , ब्रज आई खेलन होली

होली पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !

होली पर्व की हार्दिक शुभकामनायें !



बरसाने  वाली छोरी , ब्रज आई खेलन होली   ,
ब्रज का छोरा छिप-छिप कर खेले है आँख-मिचौली !
.........................................................
घर-घर में ढूंढें राधा कान्हां है छिपा कहाँ पर ,
फिर जमुना तट पर खोजा पाया ना उसे वहाँ पर ,
वो जगत -खिलावन वाला करता है खूब ठिठौली !
बरसाने  वाली छोरी , ब्रज आई खेलन होली   !
...........................................................
कान्हां के मित्र-सखागण हँसते हैं राधा-दल पर ,
कुढ़ती-चिढ़ती रह जाती हाथों को मल-मल-मल कर ,
तभी पड़ी कदम्ब पर दृष्टि और देखि छवि सलोनी !
बरसाने  वाली छोरी , ब्रज आई खेलन होली   !
...................................................................
कान्हां के मुख-दर्शन से झुलसी कलियाँ मुस्काई ,
राधा के मनमोहन ने फिर मुरली मधुर बजाई ,
पिचकारी लेकर राधा कान्हां को रंगने दौड़ी !
बरसाने  वाली छोरी , ब्रज आई खेलन होली   !
..........................................................
कान्हां को रंग दिया हाय मल -मल कर लाल गुलाल ,
फिर कान्हां ने रंग डाले राधा के गोरे गाल ,
अजी होरी है जी होरी ; होरी में कैसी चोरी !
बरसाने  वाली छोरी , ब्रज आई खेलन होली   !

शिखा कौशिक 'नूतन' 

9 टिप्‍पणियां:

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

holi ....to ...ho...li....sundar prastuti ...

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (16-03-2014) को "रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाएँ" (चर्चा मंच-1553) पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
रंगों के पर्व होली की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

हिमकर श्याम ने कहा…

बहुत सुन्दर भावाभिव्यक्ति... 'होली खेले तो आ जईयो बरसाने रसिया' बरसाने से ही होली की विशेष उमंग जागृत होती है. राधा-कान्हा और ब्रज को याद किये बिना क्या होली....

हिमकर श्याम ने कहा…

रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ...

हिमकर श्याम ने कहा…

रंगोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ...

राजेंद्र कुमार ने कहा…

आपको भी सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।

savan kumar ने कहा…

अच्छी कविता ---आभार होली की शुभ....

shyam Gupta ने कहा…

सुन्दर होली गीत ....

Anil Kumar 'Aline' ने कहा…

आदरणीया!
होली, राधा, कृष्ण और ब्रज..............चारो एक-दुसरे के पूरक है....और जिस गीत में ये चारो हो उस रचना में चार चाँद लगना स्वाभाविक है.............मनमोहक गीत !