सोमवार, 31 दिसंबर 2012

एक ही रास्ता...... डा श्याम गुप्त....

                            एक ही रास्ता ...सयंम, चरित्र व आचरण ......डा श्याम गुप्त.....

                 अनाचरण की घटनाओं को रोकने का एक यही रास्ता है......पढ़ें , समझें व मनन करें .....दो विद्वानों के युक्ति-युक्त पूर्ण विचार..




                    ...

2 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

मंगलमय नव वर्ष हो, फैले धवल उजास ।
आस पूर्ण होवें सभी, बढ़े आत्म-विश्वास ।

बढ़े आत्म-विश्वास, रास सन तेरह आये ।
शुभ शुभ हो हर घड़ी, जिन्दगी नित मुस्काये ।

रविकर की कामना, चतुर्दिक प्रेम हर्ष हो ।
सुख-शान्ति सौहार्द, मंगलमय नव वर्ष हो ।।

शालिनी कौशिक ने कहा…

सार्थक अभिव्यक्ति शुभकामना देती ”शालिनी”मंगलकारी हो जन जन को .-2013