शुक्रवार, 16 जनवरी 2015

* घूंघट की दीवारों में !*


* घूंघट की दीवारों  में !*
Image result for free images of woman in ghoonghat

क्यों कैद किया औरत को ?
घूंघट की दीवारों  में ,
घुटती है ; सिसकती है ,
घूंघट की दीवारों  में !
......................................
कुछ कर के दिखाने की ;
उसकी भी तमन्ना थी ,
दम  तोड़ रही हर चाहत ;
घूंघट की दीवारों  में !
......................................................
मुरझाया सा दिल लेकर ;
दिन-रात भटकती है ,
हाय कितना अँधेरा है !
घूंघट की दीवारों  में !
......................................
घूंघट जो उठाया तो ;
बदनाम न हो जाये ,
डर-डर के रोज़ मरती है ;
 घूंघट की दीवारों  में !
.........................................
क्या फूंकना औरत को ;
मरघट पे है ले जाकर ,
जल-जल के खाक होती है ;
घूंघट की दीवारों  में !

शिखा कौशिक 'नूतन'
















8 टिप्‍पणियां:

Shalini Kaushik ने कहा…

very nice post .thanks

Shalini Kaushik ने कहा…

very nice post .thanks

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

सटीक और सार्थक पोस्ट
सूर्य पर्व -मकर संक्रांति
संत -नेता उवाच !

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (18-01-2015) को "सियासत क्यों जीती?" (चर्चा - 1862) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (18-01-2015) को "सियासत क्यों जीती?" (चर्चा - 1862) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

sushma 'आहुति' ने कहा…

भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

shyam Gupta ने कहा…

सही ---पर आजकल घूंघट कौन कर रहा है ..

savan kumar ने कहा…

घूंघट कपड़ों का नहीं आँखों में शर्म सका होना चाहिए
http://savanxxx.blogspot.in