सोमवार, 11 नवंबर 2013

दो पल-- गीत ...डा श्याम गुप्त .....



    दो पल--

राह में दो पल साथ तुम्हारे,
 बीते उनको ढूढ रहा हूँ |
पल में सारा जीवन जीकर,
 फिर वो जीवन ढूंढ रहा हूँ |

उन दो पल के साथ ने मेरा,
 सारा जीवन बदल दिया था |
नाम पता कुछ पास नहीं पर,
 हर पल तुमको ढूंढ रहा हूँ |

तेरी चपल सुहानी बातें,
 मेरे मन की रीति बन गयीं |
तेरे सुमधुर स्वर की सरगम,
जीवन का संगीत बन गयीं |

तुम दो पल जो साथ चल लिए,
जीवन की इस कठिन डगर में 
मूक साक्षी   बनीं जो   राहें ,
उन राहों को   ढूंढ  रहा हूँ |

पल दो पल में जाने कितनी,
 जीवन-जग की बात होगई  |
हम तो चुप-चुप ही बैठे थे,  
बात बात में बात होगई |

कैसे पहचानूंगा तुमको,
मुलाक़ात यदि कभी होगई |
तिरछी चितवन और तेरा,
 मुस्काता आनन् ढूंढ रहा हूँ |

मेरे गीतों को सुनकर, वो-
तेरा  वंदन  ढूंढ रहा हूँ |
चलते -चलते तेरा वो,
प्यारा अभिनन्दन ढूंढ रहा हूँ |


3 टिप्‍पणियां:

savan kumar ने कहा…

मेने पहले भी कहां हैं आज फिर कह रहा हूँ। जहां प्रेम(श्रृंगार) पर लिखना जितना कठिन हैं उतना ही सहज भी। श्याम जी इस कला के माहिर न सहीं फिर भी अच्छा लिख रहे हैं....आपको बधाई

shyam Gupta ने कहा…

---क्या बात है ..सावन कुमार

कभी खुद पे कभी हालात पे हंसना आया,
बात निकली तो मौसमे सावन पे जीना आया|
माहिर कौन हुआ है इस जग में मेरे दोस्त,
सबको अपनी ही रीति-नीति से लिखना आया ||

savan kumar ने कहा…

इस शेर के लिए एक बार फिर आपका...आभार