रविवार, 24 नवंबर 2013

तुम क़त्ल कर रहे इनका...?


मत मारो मत मारो मत बेटियों को मारो ,
इनको भी हक़ जीने का ये जान लो हत्यारो !
........................................................
ये नन्ही नन्ही कलियाँ चटकेंगी -महकेंगी ,
ये नन्ही नन्ही चिड़ियाँ फुदकेंगी -चहकेंगी ,
ये भी हैं अंश तुम्हारा , ये तो तनिक विचारो !
इनको भी हक़ जीने का ये जान लो हत्यारो !!
............................................................
ये किरणें हैं सूरज की चमकेंगी चमकेंगी ,
ये दामिनी बन नभ में दमकेगी दमकेगी ,
ये झाँसी की हैं रानी मत अबला इन्हें पुकारो !
इनको भी हक़ जीने का ये जान लो हत्यारो !!
.....................................................
ये जननी ,माता ,पत्नी ,पुत्री व् प्यारी बहनें ,
हर रूप है महिमाशाली ,गरिमा के क्या कहने ,
तुम क़त्ल कर रहे इनका खुद को ही अब धिक्कारो !
इनको भी हक़ जीने का ये जान लो हत्यारो !

शिखा कौशिक 'नूतन'

2 टिप्‍पणियां:

sushma 'आहुति' ने कहा…

बहुत खुबसूरत एहसास पिरोये है अपने......

savan kumar ने कहा…

लगा सच को कुछ शब्द मिल गए हैं... बधाई