बुधवार, 22 अप्रैल 2015

मेरे वज़ूद से टकराने की कोशिश कर लो !


मिटा सको तो मिटाने  की तुम कोशिश कर लो !
मेरे वज़ूद से टकराने की कोशिश कर लो !
..............................................................
मैं नहीं ताश के पत्तों का कोई शीशमहल ,
गिरा सको तो गिराने की भी कोशिश कर लो !
......................................................
नहीं तारीख़ जो दिन-रात में बदल जाऊँ ,
मुझे तारीख़ में दफ़नाने की कोशिश कर लो !
............................................................
दिलों की धड़कनें बन कर मैं ही धड़कती हूँ ,
दिलों को थामने की कर सको कोशिश कर लो !
................................................................
तुम्हारी बददुआ है बेअसर मुझ पर 'नूतन'
कभी फौलाद को पिघलाने की कोशिश कर लो !

शिखा कौशिक 'नूतन'

5 टिप्‍पणियां:

Choudhary Anuragdhetarwal ने कहा…

शिखा दीदी नारी का वजूद मिटने से पूर्व यह सृस्टि ही समाप्त हो जाएगी। क्या नारी के बिना भी कोई सृस्टि संभव है?

dj ने कहा…

अप्रतिम। सुन्दर रचना। बधाई शिखा जी।

Sanju ने कहा…

सुन्दर व सार्थक प्रस्तुति..
शुभकामनाएँ।
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

Rajesh kumar Rai ने कहा…

लाज़वाब।

Rajesh kumar Rai ने कहा…

लाज़वाब।