शनिवार, 14 दिसंबर 2013

दें दूंगा मैं तलाक जो आँख दिखाई !!

Young brunette beauty or bride, behind a white veil - stock photo
बेगम तो फ़िक्र करती है शौहर की सुबह-शाम ,
बेफिक्र होकर बीतती शौहर की सुबह -शाम !
.............................................................
बेगम के सिर में दर्द है बेहाल हो रही ,
नुक्कड़ पे ताश खेलते शौहर जी सुबह-शाम !
.......................................................
दें दूंगा मैं तलाक जो आँख दिखाई ,
इन धमकियों में दहलती बेगम की सुबह-शाम !
.............................................................
बेगम क्यूँ फ़िक्र करती हो बच्चा नहीं हूँ मैं ,
छोड़ो ये पहरेदारी शौहर की सुबह-शाम !
..................................................................
बेगम गयी है 'नूतन' जिस दिन से मायके ,
कटती है इत्मीनान से शौहर की सुबह-शाम !

शिखा कौशिक 'नूतन'

9 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-12-13) को "नीड़ का पंथ दिखाएँ" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1462 पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
पोस्ट का लिंक कल सुबह 5 बजे ही खुलेगा।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (15-12-13) को "नीड़ का पंथ दिखाएँ" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1462 पर भी होगी!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज रविवार (15-12-13) को "नीड़ का पंथ दिखाएँ" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1462 पर भी होगी!

Rewa tibrewal ने कहा…

sach bayan karti rachna....

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिव्यकरी !
नई पोस्ट विरोध
new post हाइगा -जानवर

Onkar ने कहा…

सटीक रचना

देवदत्त प्रसून ने कहा…

सभी सुधी रचनाकारों को गीता-जयंती की वधाई !
सचमुच बहुत सटीक बात कही है !

shyam Gupta ने कहा…

बेगम है बंद घर में, शौहर है काम पर,
होकर के बोर क्या करे बस फ़िक्र सुबहो-शाम|

savan kumar ने कहा…

अच्छी रचना