बुधवार, 27 फ़रवरी 2013

PARDA -PRATHA CAN NOT BE JUSTIFIED IN ANY MANNER !

 My Hijab My Choice (Fazal Subhan) Tags: women islam hijab choice niqab soe parda supershot magicalbeauty concordians flowerofislam fazlionlineghoonghat 1 (ashok monaliesa) Tags: woman india beautiful beauty eyes colours indian traditions dreams cultures parda pardah nakab ghoonghat
पर्दा -घूंघट -बुरका ...कुछ भी नाम दें -इसे ....नारी के मुख के साथ -साथ नारी के वजूद को ही छिपा डालने का एक उपाय पुरुष -प्रधान समाज ने ढूंढ निकाला था .....क्या विचार हैं आपके ?
  PARDA -PRATHA CAN NOT BE JUSTIFIED IN ANY MANNER !
WHAT 'S YOUR VIEW ?

               शिखा कौशिक 'नूतन '

11 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

पर्दा प्रथा को लेकर आपके विचार पूर्ण रूप से सही हैं क्योंकि नारी का अस्तित्व सदैव से पुरुष के लिए अपनी संपत्ति के रूप में ही रहा है और इसी को लेकर नारी को इस बंधन में बांधा गया है ताकि पुरुष की इस कथित संपत्ति पर किसी और की नज़र न पड़े .क्या हैदराबाद आतंकी हमला भारत की पक्षपात भरी नीति का परिणाम है ?नहीं ये ईर्ष्या की कार्यवाही . आप भी जानें हमारे संविधान के अनुसार कैग [विनोद राय] मुख्य निर्वाचन आयुक्त [टी.एन.शेषन] नहीं हो सकते

रविकर ने कहा…

सटीक-

Pratibha Verma ने कहा…


हमेंशा से नारी को दबा कर रखा गया है ...और ये उसका जीता - जागता सबूत है।।

DR. ANWER JAMAL ने कहा…

परंपराओं पर पुनर्विचार सराहनीय है.

पर्दा करने वाली औरतें भी है और बिलकुल बेपर्दा रहने वाली महिलायें भी हैं . दोनों कम हैं . अधकचरा स्टाइल का चलन ज़्यादा है. तीनों तरह की औरतों को सराहने वाले भी हैं.

औरत पर किसी मर्द को अपनी बात थोपनी नहीं चाहिए.
औरत जिस बात में अपनी सुरक्षा और अपनी सुन्दरता की रक्षा समझे, करे. मर्द उसका साथ दे सके तो ठीक है वरना अगर वह अपनी सुरक्षा ख़तरे में देखे तो उस से किनारा कर ले. किसी की आज़ादी छीनना ठीक नहीं है.

औरत मर्द की संपत्ति नहीं और मर्द का माल औरत की जागीर नहीं. अपना कमाओ और अपना खाओ.

Sanju ने कहा…

Nice post.....
Mere blog pr aapka swagat hai

Dr. Ayaz Ahmad ने कहा…

बढ़िया !!!

Devdutta Prasoon ने कहा…

इस युग में भी नारी पर्दा अगर कहीं पर करती है |
कारा में रह कर आज़ादी का फिर दम क्यों भर्ती है ||

Vinay Kumar ने कहा…

nari ke chehre ya badan chupane se vo apang nahi ho jaati...vo jo chahe kar sakti hai....she is having full freedom....
parda to isliye karate hai k kisi shaitan mein mard ya kisi mard ka shaitan na jaag jaye aur kuch uch nich na ho jaye

Ruchi Agrawal ने कहा…

Kya koi bata sakta h k ye mard... apni hi ma aur behen k samne kyo nahi jagta???

Unknown ने कहा…

Mere pyare dosto parda pratha nahi kupratha hai isliye sabse pehle use pratha khana band kar de..

Unknown ने कहा…

Mere pyare dosto parda pratha nahi kupratha hai isliye sabse pehle use pratha khana band kar de..