सोमवार, 11 फ़रवरी 2013

श्याम स्मृति....मुक्ति का पथ-दीप नारी... सदा मुक्त....डा श्याम गुप्त..

                          स्त्री  स्वयं ही पथ है मुक्ति का, इस पथ पर चले बिना कौन मुक्त होता है | स्त्री  ही तो सदा मुक्ति हेतु पथ-दीप का कार्य करती है | पथ की भी कभी मुक्ति होती है ? संसार के हितार्थ कुछ तत्व कभी मुक्त नहीं होते मूलतः प्रकृति-तत्व, अन्यथा संसार कैसे चलेगा |’
                 नारी प्रकृति है, माया है | स्त्री द्विविधा भाव है | वही मोक्ष से रोकती भी है अर्थात संसारी भाव में जीव अर्थात पुरुष का जीना हराम भी करती है और और वही मोक्ष का द्वार भी है जीना आरामदायक भी करती है | काली के रूप में शिव को शव बनादेती है, सती के रूप में शिव को उन्मत्त करती  है तो पार्वती बन कर शिव को चन्द्रचूड बना देती है और तुलसी को तुलसीदास | नारी को गौ रूप कहा जाता है अर्थात वह प्रकृति में पृथ्वी है, गाय है, इन्द्रिय है, संसार हेतु अविद्या है तो तत्व रूप में विद्या, ज्ञान व बुद्धि |
                बंधन में तो पुरुष अर्थात जीव रूप में ब्रह्म या पुरुष रहता है| उसी को मुक्त होना होता है | नारी, प्रकृति, माया तो बद्ध-पुरुष को मुक्ति के पथ पर लेजाती है| तभी तो ईशोपनिषद में मोक्ष मन्त्र कहा गया है.......            
                        ” विद्या चाविद्या यस्तत  वेदोभय स:
                       अविद्यया मृत्युं तीर्त्वा विद्ययामृमनुश्ते ||” 


                   वास्तव में तत्व व्याख्या में नारी जीव नहीं है | वह तो शक्ति का रूपांतरण है | अतः नारी तो सदा मुक्त है | वह बंधन में होती ही कब है | वह तो स्वयं बंधन है | जीव, पुरुष रूपी ब्रह्म को बांधने वाली | पुरुष ही बंधन में होता है | ब्रह्म, पुरुष रूप में, जीव रूप में आकर स्वयं ही माया-बंधन में बंधता है ताकि संसार का क्रम चलता रहे | नारी तो स्वयं ही माया है, प्रकृति है | पुरुष –ब्रह्म को बाँध कर नचाने वाली| यद्यपि माया स्वयं ब्रह्म की इच्छा पर ही कार्य करती है स्वतंत्र रूप से नहीं क्योंकि वह उसी का अंश है.......   
                      “ ब्रह्म की इच्छा माया नाचे जीवन जगत सजाये |
                       जीव रूप जब बने ब्रह्म फिर माया उसे नचाये



4 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

एकदम सही बात कही है आपने अफज़ल गुरु आतंकवादी था कश्मीरी या कोई और नहीं ..... आप भी जाने संवैधानिक मर्यादाओं का पालन करें कैग

डॉ शिखा कौशिक ''नूतन '' ने कहा…

सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

Aditi Poonam ने कहा…

सार्थक व् सटीक लेख
साभार


डा. श्याम गुप्त ने कहा…

धन्यवाद..पुनम जी शिखाजी एवं शालिनी....