गुरुवार, 25 सितंबर 2014

या देवी सर्व-भूतेषु --नारी ..... को श्रृद्धा -नमन क्यों नहीं ?...डा श्याम गुप्त



या देवी सर्व-भूतेषु -- नारी को श्रृद्धा -नमन क्यों नहीं ?

             नवरात्र .... देवी रूपा नारी के विभिन्न भाव रूपों की पूजा का उत्सव हैं.....
तीन देवियाँ ---ग्रीस ( रोमन)

त्रि देवी ...मिस्र
पार्वती

महा भगवती --जिनका वर्णन करने में स्वयं त्रिदेव भी सक्षम नहीं


  
               सृजन की ईशत-सत्ता, परमतत्व, परब्रह्म  की कार्यकारी शक्ति जहां असीम ब्रह्म में प्रकृति, माया या आदि शक्ति है ...वहीं ससीम विश्व में वह शक्ति व नारी रूपा है | अतः परमतत्व को समझने के लिए उससे बढ़कर श्रेष्ठतर  तत्व और क्या हो सकता है| जहां देवी, दुर्गा, काली, गौरी, लक्ष्मी, राधा, सीता, योगिनी, त्रिपुर सुन्दरी आदि ... शक्ति के विभिन्न नाम-रूपों की पूजा  की जाती रही है; वहीं नारी के सखा, माँ, भगिनी, प्रेयसि, पत्नी आदि विभिन्न  सामाजिक, पारिवारिक रूप संसार जीवन-जगत में महत्वपूर्ण हैं | अतः नारी सदैव ही समाज की केन्द्रीय भूमिका में रहती आयी है| शक्ति-रूपा नारी  सदैव  ही  मानव के श्रृद्धा  अन्तःस्फूर्ति का केंद्र है  एवं सदा होना चाहिए |


                   धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष रूपी जीवन तत्व  संसार तत्व को समझने  उसकी प्राप्ति सिद्धि के लिए मनुष्य  रिद्धि-सिद्धि, योग, व्यापार, कला , राजनीति, धर्म आदि का अवलंबन लेते हैं | परन्तु जीवन तत्व स्वयं जिसका प्रलेख है एवं परमात्म-सत्ता स्वयं को व्यक्त करने हेतु जिसका आलंबन लेती है उस अखंड मातृसत्ता से अन्यथा आलंबन इस संसार चक्र के हेतु और क्या हो सकता है ?  तो उसी  "या देवी सर्व भूतेषु 
"... मातृरूपा ..नारी, स्त्री को सदैव श्रृद्धा-नमन  की दृष्टि द्वारा हम क्यों नहीं देख सकते ... क्यों उस पर अत्याचार ..अनाचार के लिए तत्पर हो जाते हैं |

4 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

NAVRATRI PAR BAHUT SUNDAR POST .JAY MATA DI !

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद शिखा जी.....

Shalini Kaushik ने कहा…

bahut vicharniy abhivaykti .badhai

shyam Gupta ने कहा…

धन्यवाद शालिनी......