रविवार, 26 नवंबर 2017

राजस्थान की संगठित शक्ति को बधाई

      पद्मावती आजकल सुर्ख़ियों में हैं .हों भी क्यूँ न नारी शक्ति की जो मिसाल पद्मावती ने पेश की वह अनूठी है और ऐसी मिसाल ही होती हैं जो अनुकरणीय बन जाती हैं यही कारण है कि आज राजस्थान उनके सम्मान को लेकर भंसाली की सोच से ,भंसाली की फिल्म से लड़ रहा है और साफ तौर पर दिखाई दे रहा है कि भंसाली अपनी फिल्म को प्रदर्शित नहीं करा पाएंगे .पर यहाँ मैं भंसाली की फिल्म के प्रदर्शन को लेकर नहीं अपितु राजस्थान की महिला शक्ति को लेकर आयी हूँ जहाँ एक विधवा माँ की तीन बेटियों ने राजस्थान प्रशासनिक परीक्षा में एक साथ सफलता प्राप्त कर पूरे देश में केवल राजस्थान का ही नहीं अपितु पूरे विश्व में भारतीय नारी की शक्ति का डंका बजाया है .

       पर यह बात भी गौर करने लायक है कि यह एकमात्र नारी शक्ति की ही नहीं बल्कि पूरे परिवार के सहयोग की भी अनूठी मिसाल है जिसमे एक भाई ने भी अपनी माँ व् बहनों का सहयोग किया और अपने पिता की इच्छा को पूरा करने में अपनी बहनों की सफलता में योगदान दिया .भाई का योगदान इसलिए सर्वोपरि है कि उसने अपने पुरुष अहम् को इस बीच में आड़े नहीं आने दिया .इसलिए बार बार राजस्थान के इस परिवार ,इन बहनों के भाई व् सम्पूर्ण नारी शक्ति को हार्दिक बधाई .
शालिनी कौशिक 



2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल सोमवार (27-11-2017) को "अकेलापन एक खुशी है" (चर्चा अंक-2800) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

sadhana vaid ने कहा…

वाह ! बहुत खूब ! बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं इन तीनों युवतियों को एवं हार्दिक आभार एवं अभिनन्दन इनकी माँ तथा भाई का भी जिन्होंने इनके सपनों को साकार करने में कोई कसर नहीं छोडी ! मिसाल बन गया है यह परिवार ! आशा है अन्य लोग इनसे प्रेरणा अवश्य लेंगे !