शनिवार, 30 मई 2015

मेरी पहली दोस्त

जब हुआ मेरा सृजन,
माँ की कोख से|
मैं हो गया अचंभा,
यह सोचकर||

कहाँ आ गया मैं,
ये कौन लोग है मेरे इर्द-गिर्द|
इसी परेशानी से,
थक गया मैं रो-रोकर||

तभी एक कोमल हाथ,
लिये हुये ममता का एहसास|
दी तसल्ली और साहस,
मेरा माथा चूमकर||

मेरे रोने पर दूध पिलाती,
उसे पता होती मेरी हर जरूरत|
चाहती है वो मुझे,
अपनी जान से  भी बढ़कर||

उसकी मौजूदगी देती मेरे दिल को सुकून,
जिसका मेरी जुबां पर पहले नाम आया|
पहला कदम चला जिसकी,
उंगली पकड़कर||

http://hindikavitamanch.blogspot.in/2015/05/blog-post_13.html

2 टिप्‍पणियां:

shikha kaushik ने कहा…

WELCOME RISHBH JI ON THIS BLOG .REALLY MOTHER IS GREAT AND WE NEVER COMPARE HER WITH ANYOTHER EXCEPT GOD .THANKS TO SHARE YOUR PRECIOUS POST HERE .

ऋषभ शुक्ला ने कहा…

Your welcome, you are right.
and thanks to you.